बिलासपुर चंबा हमीरपुर कांगड़ा किन्नौर कुल्लू लाहौल-स्पीति मंडी शिमला सिरमौर सोलन ऊना
ताज़ा ख़बरें
सीएम पधर में फहराएंगे तिरंगा, द्रंग को करोड़ों की सौगातसीएस ने आजादी का अमृत महोत्सव के आयोजन की समक्षा कीहमीरपुर: 44 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव, डीसी ने जांचा टीका केंद्रऊना: एक गन लाइसेंस रद्द, तीन निलंबितहिमाचल दिवस पर पूर्व संध्‍या पर प्रसारित होगा सीएम का संदेशधर्मशाला:ओंकार नैहरिया बने मेयर,सर्वचंद डिप्टी मेयरसोलन: केवल 09 पार्षदों ने ली शपथसलूणी: तलोड़ी में खुला पहला चिल्ड्रन लर्निंग सेंटरकोविड टेस्‍ट में वृद्धि और वैक्‍सीनेशन को प्रोत्साहित किया जाए:सीएमअनुराग ठाकुर कल सुजानपुर में, भोरंज में भी कार्यक्रमजेएनवी पपरोला की चयन परीक्षा 16 मई कोमंडी: भाजपा की दीपाली महापौर, वीरेंद्र बने उपमहापौरसोलन: लगेंगे रोज़गार शिविर, दसवीं पास है योग्‍यताकोविड-19 महामारी का अंत अभी काफी दूर: डब्ल्यूएचओ भारत में तैयार होंगी स्पुतनिक की सालाना 85 करोड़ खुराकें

पत्रकार की आवाज

जागरण को एक ओर झटका, अभय छजलानी को वाहन सुख देने वाले नरेंद्र शर्मा ने पाई विजय

जागरण को एक ओर झटका, अभय छजलानी को वाहन सुख देने वाले नरेंद्र शर्मा ने पाई विजय

इंदौर, 12 जनवरी। जागरण प्रबंधन के नई दुनिया इंदौर को मजीठिया मामले में झटके पर झटके लग रहे हैं, लेकिन ना प्रबंधन और ना मालिक सुधरने का नाम ले रहे हैं। सोमवार को नई दुनिया में ड्राइवर के पद पर कार्यरत रहे नरेंद्र शर्मा ने मजीठिया में विजय प्राप्त कर अपने बुढ़ापे में नई दुनिया में की गई सेवा का ब्याज प्राप्त किया है।

उत्तराखंड में पत्रकारिता की आड़ में संगठित गिरोह

उत्तराखंड में पत्रकारिता की आड़ में संगठित गिरोह

पिछले 15 दिन में दो क्लबों की कार्यकारिणी बनी। मैं इन्हें गिरोह कहता हूं, कारण यह है कि इनमें पहले से ही तय होता है कि कौन किस पद पर किसको बिठाना है। पद हासिल करने के बाद पत्रकारों का कितना हित होता है, यह अलग बात है। लेकिन इसकी आड़ में अधिकांश पदाधिकारी अपने लिए या संस्थान के लिए दलाली करते हैं। संस्थान इन्हें क्लब या संगठन का पदाधिकारी इसलिए बनने देते हैं ताकि ये वो संस्थान के कार्यों के लिए दलाली कर सकें। मसलन किसी को खनन पट्टा दिलाना है, विश्वविद्यालय खोलना है और यहां तक कि यदि उनका कोई बड़ा अधिकारी और मालिक उत्तराखंड भ्रमण पर आ रहा है तो उसकी सरकारी गेस्ट हाउस में रहने-खाने की व्यवस्था करना है। ये क्लब और पत्रकार संगठन इन्हीं उल्टे कार्यो के लिए गठित होते हैं। सरकार भी यही चाहती है कि मीडिया जनता तक सच्चाई न पहुंचाये। इसलिए ऐसे चाटुकारों-दलालों की सरकार में बड़ी कद्र होती है।

सन्मार्ग अखबार के मीडियाकर्मियों को 97 लाख रुपये पीएफ का बकाया मिलेगा

सन्मार्ग अखबार के मीडियाकर्मियों को 97 लाख रुपये पीएफ का बकाया मिलेगा

जिन मीडिया हॉउस के मालिकों को ये गुमान हो गया है कि वे कानून से बड़े हैं उन्हें धरातल पर आने के लिए सन्मार्ग अखबार प्रबंधन के खिलाफ केंद्रीय भविष्य निधि कार्यालय आयुक्त (पीएफ कमिश्नर) की तरफ से आया ये फैसला पढ़ना चाहिए।

दैनिक जागरण को मिली 12वीं पराजय, पप्पू जाट ने जीता मजीठिया का केस

दैनिक जागरण को मिली 12वीं पराजय, पप्पू जाट ने जीता मजीठिया का केस

इंदौर। नई दुनिया (जागरण प्रकाशन लिमिटेड) को मजीठिया वेतनमान के केस में लगातार 12वीं पराजय मिली है। 12वें विजेता मजीठिया क्रांतिकारी पप्पू जाट रहे हैं। अब तक के 12 मजीठिया प्रकरणों के परिणामों में जागरण प्रबंधन (दैनिक जागरण) के खिलाफ 51,90,665 रुपये के अवार्ड पारित हुए हैं। उक्त राशि एक माह में जमा कराने का कोर्ट का फरमान है। अगर एक माह में राशि जमा नहीं की तो प्रति प्रकरण प्रतिमाह 2000 रुपये के हिसाब से दंड स्वरूप देय होगा।

दैनिक जागरण की कोर्ट में लगातार 11वीं पराजय, फिर तीन साथियों ने जीता मजीठिया का केस

दैनिक जागरण की कोर्ट में लगातार 11वीं पराजय, फिर तीन साथियों ने जीता मजीठिया का केस

इंदौर में जागरण प्रबंधन के नई दुनिया अखबार के पत्रकार और श्रमजीवी पत्रकारों को मजीठिया मामले में 11वीं विजयश्री प्राप्त हुई है। पिछले दो दिनों में आए कोर्ट के फैसले में दीपक पाठक, हामिद अली और सुभाष चोरमा ने फतह प्राप्त की है।

निर्धारित वेतनमान से कम वेतन लेने का घोषणा पत्र मान्य नहीं, डाउनलोड करें पूरा आदेश

निर्धारित वेतनमान से कम वेतन लेने का घोषणा पत्र मान्य नहीं, डाउनलोड करें पूरा आदेश

ग्वालियर। मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की युगलपीठ के न्यायमूर्ति सुजयपाल एवं न्यायमूर्ति फहीम अनवर ने राजस्थान पत्रिका लिमिटेड (आर पी एल) बनाम मध्यप्रदेश शासन की पुर्नविचार याचिका निरस्त हुए निर्णित किया है कि वेतनमान प्राप्ति के लिए निर्धारित प्रारूप के अनुसार ही आवेदन दिया जाए यह आवश्यक नहीं है। श्रम कानून सामाजिक लाभ के विधान हैं। इसमें तकनीकी त्रुटियों एवं बारिकियों को नहीं देखा जाना चाहिए। यह सिविल न्यायालय की तरह विधान नहीं है। प्रकरण के तथ्यों के अनुसार कर्मचारी ने निर्धारित वेतनमान के अनुसार वेतन की गणना कर उप श्रमायुक्त के समक्ष आवेदन प्रस्तुत किया था। एवं 9,6108़.00 (रूपये नौ लाख छह हजार एक सौ आठ मात्र) वेतन के अंतर की मांग थी। उप श्रमायुक्त के समक्ष मेनेजमेंट ने तकनीकी आपत्तियां उठाई एवं वेतनमान के अंतर की राशि का स्पष्ट खंडन नहीं किया। 

नई दुनिया के पत्रकारों को मजीठिया में मिली 10वीं सफलता

नई दुनिया के पत्रकारों को मजीठिया में मिली 10वीं सफलता

जागरण प्रबंधन के नई दुनिया इंदौर में पत्रकार व श्रमजीवी पत्रकारों को मजीठिया मामले में 10वीं विजयश्री प्राप्त हुई है। मंगलवार को प्लांट के मजीठिया क्रांतिकारी पदम शर्मा ने विजय प्राप्त की।

इंदौर में बड़ी सफलता: जागरण प्रबंधन को झटका, 7 मजीठिया क्रांतिकारियों ने पाई विजय

इंदौर में बड़ी सफलता: जागरण प्रबंधन को झटका, 7 मजीठिया क्रांतिकारियों ने पाई विजय

इंदौर में मजीठिया क्रांति आखिर रंग लाई और 7 साथियों ने इसमें विजयश्री प्राप्त की। इंदौर में मजीठिया क्रांतिकारियों का जो फैसला हुआ है उसमें नई दुनिया (जागरण प्रबंधन) को बड़ा झटका लगा है, लेकिन जागरण प्रबंधन के लिए राहत वाली बात यह रही है कि 50 हजार का ब्याज कोर्ट ने मान्य इसलिए नहीं किया कि पक्षकार इसे साबित नहीं कर पाए। वैसे माननीय जज ने फैसला ऐतिहासिक सुनाकर मजीठिया क्रांतिकारियों को राहत ही दी है। इस लड़ाई में नई दुनिया के धर्मेन्द्र हाडा और वरिष्ठ अभिभाषक वाडियाजी का सराहनीय योगदान रहा है।

मीडिया वाले सरकारी भौंपू हो गए तो किसानों ने निकाल दिया अपना अखबार, देखें ट्राली टाइम्स!

मीडिया वाले सरकारी भौंपू हो गए तो किसानों ने निकाल दिया अपना अखबार, देखें ट्राली टाइम्स!

सरदार का दिमाग अभी सरकार के बस का नहीं। धरने पर बैठे किसान अब अब अपना अखबार निकाल रहे हैं-ट्रॉली टाइम्स। दिल्ली के टीकरी और सिंघू बॉर्डरों पर जमे आंदोलनकारियों में से कुछ ने वहाँ खड़ी एक ट्रॉली में बैठ कर इसकी योजना बनाई। इसके संपादक और प्रकाशक हैं 46 वर्षीय सुमीत मावी, जो फिल्मों के पटकथा लेखक हैं और 27 वर्षीय गुरदीप सिंह धालीवाल, जो डॉक्यूमेंटरी फिल्म फोटोग्राफर हैं। चार पृष्ठों के इस बुलेटिन में तीन पृष्ठ पंजाबी के हैं और एक पृष्ठ हिंदी का।

सुप्रीम कोर्ट ने भी माना, मजीठिया से बचने के लिए पत्रिका ने फर्जी कंपनी बनाई

सुप्रीम कोर्ट ने भी माना, मजीठिया से बचने के लिए पत्रिका ने फर्जी कंपनी बनाई

पत्रिका ने मजीठिया वेज बोर्ड का लाभ देने से बचने के लिए फोर्ट फोलिएज नाम की एक कंपनी का रातों-रात गठन किया और अपने अधिकांश कर्मचारियों की सेवाओं को उसमें स्थानांतरित कर दिया। 

उत्तरजन परिवार की एक और नई पहल

उत्तरजन परिवार की एक और नई पहल

12 फरवरी 2016 को उत्तरजन टुडे ग्रुप की शुरुआत हुई। उत्तरजन टुडे मासिक पत्रिका ने प्रदेश के सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक सरोकारों को सहेजने की कोशिश की। हमने प्रदेश में रचनात्मक और सकारात्मक पत्रकारिता अपनायी। परिणाम उत्साहजनक रहे और आज कोरोना काल में जब अधिकांश मीडिया हाउस और पत्र-पत्रिकाएं बुरी स्थिति में हैं, हम मजबूत कदमों के साथ मंजिल की ओर बढ़ रहे हैं। इस बीच हमने उत्तरजन टुडे की वेबसाइट भी लांच की। और आज यू-टयूब चैनल उत्तरजन टीवी की विधिवत शुरुआत आईटीएम के चेयरमैन निशांत थपलियाल और उनकी धर्मपत्नी रुचि थपलियाल ने की।

डोबरा-चांठी नहीं है देश का सबसे लंबा झूला पुल

डोबरा-चांठी नहीं है देश का सबसे लंबा झूला पुल

पत्रकारिता में हमें बताया जाता है कि आपको रोज सीखना है। सीनियर या जूनियर पत्रकार की प्रतिष्ठा उसके सीखने की लालसा और शब्दों से जूझने की शक्ति से होती है। शब्दों के खेल में अक्सर गलतियां होती हैं, इसलिए कोई भी पत्रकार या लेखक परफेक्ट होने का दावा नहीं कर सकता। मानवीय भूल होती ही है। अक्सर मैं बहुत गलतियां करता हूं, लेकिन उनसे सीखता हूं। कोशिश होती है कि न दोहराऊं। 

12345678910...
News/Articles Photos Videos Archive Send News

Himachal News

Email : editor@firlive.com
Visitor's Count : 1,22,97942
Copyright © 2016 First Information Reporting Media Group All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech