बिलासपुर चंबा हमीरपुर कांगड़ा किन्नौर कुल्लू लाहौल-स्पीति मंडी शिमला सिरमौर सोलन ऊना
ताज़ा ख़बरें
सीएम पधर में फहराएंगे तिरंगा, द्रंग को करोड़ों की सौगातसीएस ने आजादी का अमृत महोत्सव के आयोजन की समक्षा कीहमीरपुर: 44 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव, डीसी ने जांचा टीका केंद्रऊना: एक गन लाइसेंस रद्द, तीन निलंबितहिमाचल दिवस पर पूर्व संध्‍या पर प्रसारित होगा सीएम का संदेशधर्मशाला:ओंकार नैहरिया बने मेयर,सर्वचंद डिप्टी मेयरसोलन: केवल 09 पार्षदों ने ली शपथसलूणी: तलोड़ी में खुला पहला चिल्ड्रन लर्निंग सेंटरकोविड टेस्‍ट में वृद्धि और वैक्‍सीनेशन को प्रोत्साहित किया जाए:सीएमअनुराग ठाकुर कल सुजानपुर में, भोरंज में भी कार्यक्रमजेएनवी पपरोला की चयन परीक्षा 16 मई कोमंडी: भाजपा की दीपाली महापौर, वीरेंद्र बने उपमहापौरसोलन: लगेंगे रोज़गार शिविर, दसवीं पास है योग्‍यताकोविड-19 महामारी का अंत अभी काफी दूर: डब्ल्यूएचओ भारत में तैयार होंगी स्पुतनिक की सालाना 85 करोड़ खुराकें

हास्य/व्यंग

कहीं जिम कार्बेट पर न हो जाएं अडाणी-अंबानी का कब्जा!

कहीं जिम कार्बेट पर न हो जाएं अडाणी-अंबानी का कब्जा!

जिम कार्बेट की एक बाघिन अब राजाजी नेशनल पार्क के मोतीचूर रेंज में शिफ्ट हो गयी है। बाघिन को डर था कि साहेब की नजर कार्बेट पर पड़ गयी है तो क्या पता अन्य राष्ट्रीय संपत्तियों की तर्ज पर पार्क को अडाणी-अंबानी को न दे दें। सो, भारी मन से राजाजी पार्क पहुंच गयी। गौरतलब है कि जब पुलवामा में 44 जवान एक-एक कर दम तोड़ रहे थे तो साहेब डिस्कबरी के बेयर ग्रिल्स के साथ मैन वर्सेज वाइल्ड की शूटिंग में व्यस्त थे।

चचा 405 दिन अंतरआत्मा की सुन लो, क्या पता फिर मौका मिले, न मिले!

चचा 405 दिन अंतरआत्मा की सुन लो, क्या पता फिर मौका मिले, न मिले!

चचा, आपको उत्तराखंड का इतिहास बनाने के लिए 1825 दिन मिले थे। इनमें से 1391 दिन आपने यूं ही बेकार गंवा दिये। एक दिन गैरसैंण ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित की। अब आपके पास 433 दिन बाकी हैं। इनमें से 14 दिन कोरोना काल में बिता दोगे और अगले 14 दिन कोरंटाइन में। यानी अब कुल 45 दिन ही बचे हैं इतिहास बनाने के लिए।

मोदी जी ने सपने में डरा दिया!

मोदी जी ने सपने में डरा दिया!

मैंने कल रात एक सपना देखा कि अपने प्यारे और न्यारे पीएम मोदी जी कसाई बन गए हैं। वो देश की गरीब जनता को खूब राशन बांट रहे हैं। जनता मुफ्त का खा-खा कर मोटी हो गई है तो मोदी जी ने एक साथ उनको महंगाई, बेकारी, सीमाओं पर निहत्थे ही दुश्मनों के आगे झोंक डाला है। जनता मर रही है, जो बच गए हैं वो भूख से मर रहे हैं। मैंने सपने में देखा भारतीयों की यह हालत देख कर मोदी जी, शाह जी, अड़ानी जी, अंबानी जी रावण की तर्ज पर ठहाके लगा रहे हैं। इन चारों के एक साथ भंयकर अट्ठास से मेरी नींद टूट गई। मैं पसीने से लथपथ था। शुक्र है सपना ही था। देश सुरक्षित हाथों में है।

बंदरों-गुलदारों ने त्रिवेंद्र सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

बंदरों-गुलदारों ने त्रिवेंद्र सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

पौड़ी गढ़वाल। लैंसीडाउन स्थित कालों के डांडा में सोमवार सुबह प्रदेश भर के बंदरों और गुलदारों ने एनआरसी और सीएए के खिलाफ प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी बंदरों और गुलदारों ने मोदी व त्रिवेंद्र रावत के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए। बंदरों और गुलदारों ने इस एक्ट को प्रकृति और संविधान के खिलाफ बताया। 

चार्जशीट से आहत सीएम वीरभद्र का इस्तीफा, टॉस से बनेगा अगला सीएम

दूसरी राजधानी धर्मशाला, 01 अप्रैल। आय से अधिक संपत्ति मामले में कोर्ट में चार्जशीट दाखिल होने के चलते मुख्यमंत्री वीरभद्र ङ्क्षसह ने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया है। हालांकि राज्यपाल ने अभी तक इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है और एक शर्त रखते हुए उन्हें पहले अपना उत्तराधिकारी चुनने के लिए दो दिन का समय दिया है। मुख्यमंत्री ने अपने उत्तराधिकारी का चुनाव टॉस के जरिये करवाने का निर्णय लिया है। अभी तक मिले आवेदनों में इस दौड़ में स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर, परिवहन मंत्री जीएस बाली, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंद्र सुख्खू, शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा, श्रम एवं उद्योग मंत्री मुकेश अग्रिहोत्री शामिल बताए जा रहे हैं।

यमलोक से लाइव: वेलेंटाइन-डे और टॉरगेट

आज सुबह-सुबह हल्की-हल्की धुप में गुलाबी ठंड और उस पर वेलेंटाइन वीक। मज़ा आ रहा है यमलोक से धरती का नज़ारा देखने का। हर तरफ प्रेम से सराबोर प्रेमी गुलाब के फूल बस। अगर सच मानो तो यमलोक से देखने पर पृथ्वी ही स्वर्ग लग रही थी, लेकिन पत्रकारों के जीवन में ये नजारा कहाँ नसीब। इतना रोमेंटिक मौसम और उस पर यमलोक में विद्रोही सोचा छूट्टी ले के घर घूम आता हूँ। अपनी बाइक उठाई कैमरा और माइक आईंडी लेके पहुँच गया यमराज के दरबार। सोचा यमराज की वेलेंटाइन-डे पर बाइट ले लंू। एक-दो और बाइट ले के रख लेता हूँ। एक दो दिन बाद बाइट चला दूंगा। अपना काम भी हो जायेगा और छूट्टी भी काट लूंगा आराम से।

नैतिकता आधार पर 'पद' छोडऩे की मांग पर बवाल

मुर्ख मंडली के अध्यक्ष ने नैतिकता शब्द का हर कहीं इस्तेमाल करने पर कड़ी आपत्ति जताई है। दरअसल उन्हें सबसे बड़ी आपत्ति नेताओं से है। मंडली का कहना है कि नेता आए दिन कह बैठते हैं कि फ्लां को नैतिकता के आधार पर पद छोडऩा चाहिए। मुर्खों के अध्यक्ष ने कहा कि अब पद छोडऩा ही है तो एसे छोड़ दें। नैतिकता को साथ में लेने की क्या जरूरत है। पद है, गैसटिक हो गई होगी कहीं कोने में जाकर छोड़ दें। इसमें नैतिकता को साथ में क्यों जोड़ रहे हैं। किसी ने कुछ किया नहीं कि बोलने लगे नैतिकता के आधार पर छोड़ें पद।

कवि गोष्ठी: सरहदों ने बांट दिया गधे का प्यार

सरहद न होती तो हर शाम तूं मेरे यहां होती
मैं भारतीय गधा और तूं पाकिस्तान गधी साथ-साथ चरते
न मैं भारत से डरता न तूं पाकिस्तान से डरती
जब भी मिलते हरी घास की चादर पर तो प्यार भरी बातें होती

News/Articles Photos Videos Archive Send News

Himachal News

Email : editor@firlive.com
Visitor's Count : 1,22,97875
Copyright © 2016 First Information Reporting Media Group All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech