बिलासपुर चंबा हमीरपुर कांगड़ा किन्नौर कुल्लू लाहौल-स्पीति मंडी शिमला सिरमौर सोलन ऊना
ताज़ा ख़बरें
कोरोनाः 477 संक्रमित, 227 मरीज हुए ठीककोरोनाः बिना मास्क के घूमने वालों के काटे चालानसंगीत की ताकत बताती है एआर रहमान की फिल्म 99 SONGS ; पढ़ें रिव्यू, देखें फिल्मकोरोनाः 10 हारे जिंदगी की जंग, कुंभ से लौटे 8 श्रद्धालुओं समेत 971 नए मामलेकोरोनाः 1 नया मामला आयाIPL 2021: वॉर्नर-जॉनी की शानदार पारी काम नहीं आई, मुंबई से 13 रन से हारा हैदराबादहमीरपुर: 69 लोग निकले कोरोना पाॅजिटिवकांगड़ा: कोरोना से तीन की मौत, 258 नए संक्रमित मिलेसीएम ने कोरोना से लड़ाई में उद्योगपतियों का सहयोग मांगाभाषा, शास्त्री व कला अध्यापक के लिए भूतपूर्व सैनिक आश्रित करें आवेदनशुद्ध हवा और जल की उपलब्धता में वन संपदा महत्वपूर्ण: डीसी चंबाराज्यपाल ने कोविड वैक्सीन की दूसरी खुराक ली अप्रेंटिस के 100 पदों पर भर्ती करें आवेदनपंचायतों में जल संग्रहण तालाब बनाने को विभाग तैयार करे योजना:डीसीहोम आईसोलेट मरीजों की स्वास्थ्य मापदंडानुसार नियमित निगरानी हो: सीएमशाहपुर में किया जाएगा इंडोर स्टेडियम का निर्माण:सरवीण चौधरी
विशेष

भारतीय सेना ने युद्ध ड्रिल करके चीन को दिखाया दम, पूर्वी लद्दाख तक ले जाई गईं कुछ यूनिट

January 07, 2021 07:04 PM
भारतीय सेना ने युद्ध ड्रिल करके चीन को दिखाया दम, पूर्वी लद्दाख तक ले जाई गईं कुछ यूनिट

नई दिल्ली, 07 जनवरी। भारतीय सेना की पश्चिमी कमान ने एलएसी पर चीन के साथ चल रहे गतिरोध के बीच आक्रामक अभ्यास किया और अपनी युद्ध क्षमताओं को परखा।  दुश्मन को एक तेज झटका देने के लिए आक्रामक युद्धाभ्यास के दौरान सामरिक हवाई समर्थन और उप-पारंपरिक युद्ध अभ्यास किया गया। इस अभ्यास का उद्देश्य सैन्य अवधारणाओं और आक्रामक युद्धाभ्यास को विकसित करना था ताकि एक नेटवर्क और सूचना-युक्त डोमेन में काम करते समय दुश्मनों के किसी भी दुस्साहस का मुकाबला किया जा सके।

 

 

उपमहाद्वीप में एक अस्थिर सुरक्षा वातावरण के बीच सेना की पश्चिमी कमान ने एकीकृत प्रशिक्षण अभ्यास किया। इसमें सभी हथियारों को शामिल किया गया था ताकि पश्चिमी मोर्चे पर इनकी परिचालन भूमिका के अनुरूप युद्ध ड्रिल को ठीक किया जा सके। सेना की यह कमांड पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और जम्मू के कुछ हिस्सों को कवर करती है। सेना की सबसे शक्तिशाली स्ट्राइक कोर अंबाला स्थित खरगा वाहिनी की विभिन्न इकाइयों ने अपने शीतकालीन प्रशिक्षण के हिस्से के रूप में फील्ड ड्रिल को अंजाम दिया। उत्तरी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ पिछले नौ महीनों से जारी टकराव के बीच हुए इस अभ्यास में बड़ी संख्या में सैनिक बख्तरबंद, तोपखाने और इंजीनियर रेजिमेंट के साथ शामिल हुए। इस तरह के अभ्यास में सामरिक वायु समर्थन, हेली-जनित ऑपरेशन और उप-पारंपरिक युद्ध भी शामिल हैं। अभ्यास के दौरान पश्चिमी कमांड से कुछ इकाइयों को पूर्वी लद्दाख तक ले जाया गया। 

 

इसी माह के अंत तक सेना में होगा पुनर्गठन

 

 

समाचार एजेंसी हिंदुस्‍थान समाचार की रिपोर्ट के अनुसार पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच भारतीय सेना में इसी माह के अंत तक एक बड़ा पुनर्गठन किये जाने की योजना है। एकीकृत युद्ध समूहों (आईबीजी) के प्रस्ताव पर सेना एलएसी के पहाड़ों पर दो स्ट्राइक कॉर्प्स तैनात रखना चाहती है। मौजूदा स्ट्राइक कोर आई कॉर्प्स और 17 कॉर्प्स को क्रमशः उत्तरी और पूर्वी इलाकों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए थोड़ा पुनर्गठित किया जाएगा, ताकि चीन से किसी भी खतरे का सामना किया जा सके। मौजूदा समय में सेना के पास चार स्ट्राइक कॉर्प्स हैं जिनमें मथुरा स्थित I कॉर्प्स, अंबाला स्थित II कॉर्प्स, भोपाल स्थित 21 कॉर्प्स और  पानागढ़ स्थित 17 कॉर्प्स हैं। स्ट्राइक कोर की प्राथमिक भूमिका विरोधी के खिलाफ आक्रामक सीमा पार कार्रवाई करना होता है।

 

मथुरा स्थित I कॉर्प्स अभी तक केवल पश्चिमी क्षेत्र में पाकिस्तान की सीमा के लिए जिम्मेदार थी लेकिन अब इसे उत्तरी कमान के लिए भी तैयार किया जा रहा है। इसी तरह पुनर्गठित किये जाने के बाद पानागढ़ स्थित 17 स्ट्राइक कॉर्प्स का ध्यान केवल पूर्वी क्षेत्र पर रहेगा। पूर्वी क्षेत्र मुख्य तौर पर सिक्किम और पूर्वोत्तर राज्यों की सीमाओं को चीन के साथ कवर करता है। इसी तरह उत्तरी क्षेत्र में लद्दाख और जम्मू-कश्मीर का हिस्सा आता है जबकि केंद्रीय क्षेत्र पूर्वी लद्दाख के दक्षिण और हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की सीमाओं को चीन के साथ साझा करता है।

 

 

सूत्रों ने कहा कि सेना का पुनर्गठन किये जाने पर आई कॉर्प्स को दो इन्फैन्ट्री डिवीजनों के साथ उत्तरी क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने की जिम्मेदारी दिए जाने की योजना है।

 

 

एलएसी के पास चीन सुधार रहा है अपने एयरबेस

 

इंटेलिजेंस एजेंसी सूत्रों के मुताबिक चीन एलएसी के पास अपने एयरबेस में इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर बना रहा है। अपने फाइटर जेट के लिए नए हैंगर बना रहा है और लाइटिंग सिस्टम भी सुधार रहा है। सूत्रों के मुताबिक चीन अपने एयरबेस में चारों तरफ से बंद हैंगर तैयार कर रहा है जिनमें चीन अपने फाइटर एयरक्राफ्ट को सुरक्षित रख सके। हैंगर की दीवार को तीन मीटर से भी ज्यादा मोटा बनाया जा रहा है और हैंगर के दरवाजों को सिंगल पीस स्ट्रांग स्टील प्लेट से तैयार किया जा रहा है। इन्हें इस हिसाब से तैयार किया जा रहा है कि 300 से 500 किलो के बम, ग्रांउड पैनिट्रेटिंग बम से हैंगर में खड़े फाइटर जेट को नुकसान न हो। चीन पाकिस्तान में स्कार्दू एयरबेस में भी नया लाइटिंग सिस्टम लगा रहा है ताकि चौबीसों घंटे, हर मौसम में एयर ऑपरेशन जारी रखा जा सके। 

  

Related Articles
कुछ कहना है? अपनी टिप्पणी पोस्ट करें
और विशेष ख़बरें
माइनस 30 डिग्री तापमान में जनरल रावत ने जवानों की थपथपाई पीठ, अमेरिकी कोल्‍ड वार किट पहने नजर आए सैनिक
हजीरा प्लांट का अत्याधुनिक के-9 वज्र टैंक दुश्‍मन को जवाब देने निकला
कानपुर में बनी विश्‍वस्‍तरीय कारबाईन, सीमा पर दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देगी सेना, पढ़ें क्‍या है खासियत
चीन फिर लड़ाई के मूड में, भारतीय चौकियों को टैंकों से घेरा, दोनों सेनाएं आमने-सामने पढ़ें पूरी खबर
पढ़े विदेशी धरती पर कहां हैं भारतीय वायुसेना के दो एयरबेस, पाकिस्तान और चीन को क्यों है इनसे परेशानी
स्वदेशी मिसाइल आकाश की जाएगी निर्यात, कैबिनेट की मंजूरी, समिति गठित
पढ़ें वायुसेना प्रमुख ने क्‍यों बताया पाकिस्तान को चीन का मोहरा और क्‍या है भारत-चीन में तनाव का कारण
भारतीय सेना अमेरिकी सैनिकों को सीखाएगी ठंड में युद्ध लड़ने के तरीके
पत्‍नी को तोहफे में दी चांद पर खरीदी जमीन
चीनी सेना को बर्फ पिघलने का इंतजार, करेगी घुसपैठ की कोशिश, असामान्य हलचल दिखी
लोकप्रिय ख़बरें
News/Articles Photos Videos Archive Send News

Himachal News

Email : editor@firlive.com
Visitor's Count : 1,23,82462
Copyright © 2016 First Information Reporting Media Group All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech