Wednesday, January 19, 2022
BREAKING
चंबा-शिमला के विधायकों ने रखी अपने क्षेत्र के विकास की प्राथमिकताएं बेरोजगार वेटेरिनरी फार्मासिस्टों ने सीएम को भेजा ज्ञापन, नई पंचायतों में मिले नियुक्‍ति   पीडब्‍ल्‍यूडी बेलदार हादसे का शिकार, 4 की मौत, 3 घायल जिला कांगड़ा के विधायकों ने रखी प्राथमिकता, सीएम ने डीपीआर समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश दिए सराह के टॉंग लेन को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया हमीरपुर में रैपिड एंटीजन टैस्ट में 168 कोरोना पॉजिटिव डॉ. सैजल बोले, नई शिक्षा नीति युवाओं के कौशल विकास में कारगर मुख्यमंत्री धर्मशाला रोपवे के अलावा करोड़ों की योजनाओं के उद्घाटन/शिलान्यास करेंगे ऊना में मिले दो ओमिक्रॉन संक्रमित, विदेश से लौटे थे दोनों बिलासपुर एम्‍स के निकट पावर हाउस में हादसा, दो मजदूर दबे एक की मौत

पेट्रोल-डीजल से सरकार की मोटी कमाई, पहली छमाही में जुटाए 1.71 लाख करोड़

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Sunday, October 31, 2021 18:24 PM IST
पेट्रोल-डीजल से सरकार की मोटी कमाई, पहली छमाही में जुटाए 1.71 लाख करोड़

नई दिल्ली, 31 अक्तूबर। पेट्रोलियम उत्पादों पर उत्पाद शुल्क संग्रह चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 33 प्रतिशत बढ़ा है। आधिकारिक आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। यदि कोविड-पूर्व के आंकड़ों से तुलना की जाए, तो पेट्रोलियम उत्पादों पर उत्पाद शुल्क संग्रह में 79 प्रतिशत की बड़ी वृद्धि हुई है।

 

वित्त मंत्रालय में लेखा महानियंत्रक (सीजीए) के आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष के पहले छह माह में पेट्रोलियम उत्पादों पर सरकार का उत्पाद शुल्क संग्रह पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 33 प्रतिशत बढ़कर 1.71 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया है। पिछले साल की समान अवधि में यह 1.28 लाख करोड़ रुपये रहा था। यह अप्रैल-सितंबर, 2019 के 95,930 करोड़ रुपये के आंकड़े से 79 प्रतिशत अधिक है।

 

पूरे वित्त वर्ष 2020-21 में पेट्रोलियम उत्पादों से सरकार का उत्पाद शुल्क संग्रह 3.89 लाख करोड़ रुपये रहा था। 2019-20 में यह 2.39 लाख करोड़ रुपये था। माल एवं सेवा कर (जीएसटी) प्रणाली लागू होने के बाद सिर्फ पेट्रोल, डीजल, विमान ईंधन और प्राकृतिक गैस पर ही उत्पाद शुल्क लगता है। अन्य उत्पादों और सेवाओं पर जीएसटी लगता है। सीजीए के अनुसार, 2018-19 में कुल उत्पाद शुल्क संग्रह 2.3 लाख करोड़ रुपये रहा था। इसमें से 35,874 करोड़ रुपये राज्यों को वितरित किए गए थे। इससे पिछले 2017-18 के वित्त वर्ष में 2.58 लाख करोड़ रुपये में से 71,759 करोड़ रुपये राज्यों को दिए गए थे।

 

वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही में पेट्रोलियम उत्पादों पर बढ़ा हुआ (इंक्रीमेंटल) उत्पाद शुल्क संग्रह 42,931 करोड़ रुपये रहा था। यह सरकार की पूरे साल के लिए बांड देनदारी 10,000 करोड़ रुपये का चार गुना है। ये तेल बांड पूर्ववर्ती कांग्रेस की अगुवाई वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार में जारी किए गए थे। ज्यादातर उत्पाद शुल्क संग्रह पेट्रोल और डीजल की बिक्री से हासिल हुआ है। अर्थव्यवस्था में पुनरुद्धार के साथ वाहन ईंधन की मांग बढ़ रही है। उद्योग सूत्रों का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में बढ़ा हुआ उत्पाद शुल्क संग्रह एक लाख करोड़ रुपये से अधिक रह सकता है।

 

पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने रसोई गैस, केरोसिन और डीजल की लागत से कम मूल्य पर बिक्री की वजह से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए पेट्रोलियम कंपनियों को कुल 1.34 लाख करोड़ रुपये के बांड जारी किए थे। वित्त मंत्रालय का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में इसमें से 10,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया जाना है।

 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने लोगों को वाहन ईंधन की ऊंची कीमतों से राहत देने में पेट्रोलियम बांडों को बाधक बताया है। पेट्रोल और डीजल पर सबसे अधिक उत्पाद शुल्क जुटाया जा रहा है। नरेंद्र मोदी सरकार ने पिछले साल वाहन ईंधन पर कर दरों को रिकॉर्ड उच्चस्तर पर कर दिया था। पिछले साल पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क को 19.98 रुपये से बढ़ाकर 32.9 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया था। इसी तरह डीजल पर शुल्क बढ़ाकर 31.80 रुपये प्रति लीटर किया गया था।

 

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें सुधार के साथ 85 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गई हैं और मांग लौटी है, लेकिन सरकार ने उत्पाद शुल्क नहीं घटाया है। इस वजह से आज देश के सभी बड़े शहरों में पेट्रोल 100 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंच गया है। वहीं डेढ़ दर्जन से अधिक राज्यों में डीजल शतक लगा चुका है। सरकार ने पांच मई, 2020 को उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी कर इसे रिकॉर्ड स्तर पर कर दिया था। उसके बाद से पेट्रोल के दाम 37.38 रुपये प्रति लीटर बढ़े हैं। इस दौरान डीजल कीमतों में 27.98 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है।

चिप डिजाइन, इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण सेवाओं में अवसरों का लाभ उठाएगा भारत

केंद्रीय आईटी राज्‍यमंत्री ने कहा : चिप डिजाइन, इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण सेवाओं में अवसरों का लाभ उठाएगा भारत

नौ चयनित क्षेत्रों में कुल रोजगार जुलाई-सितंबर 2021 में बढ़कर 3.10 करोड़ हुआ

क्‍यूईएस : नौ चयनित क्षेत्रों में कुल रोजगार जुलाई-सितंबर 2021 में बढ़कर 3.10 करोड़ हुआ

अक्टूबर में जीएसटी संग्रह बढ़कर 1.30 लाख करोड़ हुआ

सरकार मालामाल : अक्टूबर में जीएसटी संग्रह बढ़कर 1.30 लाख करोड़ हुआ

हीरो इलेक्ट्रिक बिक्री नेटवर्क का विस्तार करेगी

300 नए बिक्री केंद्र खुलेंगे : हीरो इलेक्ट्रिक बिक्री नेटवर्क का विस्तार करेगी

फिर बढ़े दाम, 18 माह में पेट्रोल 36, डीजल 26.58 रुपये लीटर महंगा हुआ

तेल में आग : फिर बढ़े दाम, 18 माह में पेट्रोल 36, डीजल 26.58 रुपये लीटर महंगा हुआ

जियो ने अगस्त में 6.49 लाख, एयरटेल ने 1.38 लाख नए मोबाइल ग्राहक जोड़े

ट्राई के आंकड़े : जियो ने अगस्त में 6.49 लाख, एयरटेल ने 1.38 लाख नए मोबाइल ग्राहक जोड़े

डॉट ने एयरटेल, वीआईएल पर 3,050 करोड़ का जुर्माना ठोका, कोर्ट जाएंगी एयरटेल

नियामक कार्रवाई : डॉट ने एयरटेल, वीआईएल पर 3,050 करोड़ का जुर्माना ठोका, कोर्ट जाएंगी एयरटेल

टाटा संस ने एयर इंडिया के लिए लगाई सबसे बड़ी बोली,अभी सरकार ने नहीं दी मंजूरी

अपने घर लौटेगी एयर इंडिया : टाटा संस ने एयर इंडिया के लिए लगाई सबसे बड़ी बोली,अभी सरकार ने नहीं दी मंजूरी

VIDEO POST

View All Videos