Friday, October 22, 2021
BREAKING
हिमाचलियों को विदेशी रहन सहन समझने में मदद करेगी हिमाचली प्रवासी ग्लोबल एसोसिएशन  डीसी ने हमीरपुर अस्पताल में किया दो अत्याधुनिक मशीनों का लोकार्पण मां के पास खेल रही बच्ची को छीन ले गई मौत, टैंक में मिला शव न्यायमूर्ति सुरेश्वर ठाकुर की गरिमापूर्ण विदाई शादी से लौटते समय बारात की कार पेड़ से टकराई, दो युवकों की मौत, 3 घायल बहुतकनीकी संस्थान चंबा में दी एंटी रैगिंग एक्‍ट की जानकारी उपचुनावों में कांग्रेस का मुकाबला आजाद प्रत्‍याशियों से, भाजपा तीसरे नंबर पर: डॉ. राजेश कांग्रेस के पास न तो कोई नेता है ओर नही नीति: त्रिलोक कपूर राज्यपाल सचिवालय में ई-ऑफिस कार्यान्वित आईटीआई जोगिंद्रनगर के प्रशिक्षुओं ने निकाली बाईक रैली

राज्यपाल पोर्टमोर स्कूल पहुंचे, बोले भारतीय समाज में महिलाओं को दिया गया उच्च दर्जा

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Monday, October 11, 2021 18:34 PM IST
राज्यपाल पोर्टमोर स्कूल पहुंचे, बोले भारतीय समाज में महिलाओं को दिया गया उच्च दर्जा

शिमला, 11 अक्‍तूबर। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने आज यहां राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पोर्टमोर का दौरा किया।  इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हमारे समाज में महिलाओं को उच्च दर्जा प्रदान किया गया है और हमारे देश को मां के रूप में स्वीकार किया गया है।

 

छात्राओं को शक्ति स्वरूप बताते हुए राज्यपाल ने कहा कि इस पर विचार करने की आवश्यकता है कि विश्व को इस दिवस को मनाने की आवश्यकता क्यों महसूस की गई। सहाना सिंह की पुस्तक एजुकेशन हेरिटेज इन एंन्शेंट इंडिया का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि भारत कि उच्च परम्परा में महिलाओं को समान अधिकार दिए गए। महिलाएं नालंदा और तक्षशिला विश्वविद्यालय में भी अध्यापन का कार्य करती थीं। उन्होंने कहा कि मध्यकाल में समाज में महिलाओं के प्रति भेदभाव बढ़ने लगा।

 

उन्होंने कहा कि मैकाले ने एक विशेष संस्कृति को खत्म करने के उद्देश्य से उसी के अनुसार किताबें लिखीं। इनमें यह बताने का प्रयास किया गया कि हमारी संस्कृति में महिलाओं की शिक्षा का कोई प्रावधान नहीं है जबकि यह धारणा पूरी तरह से गलत है। राज्यपाल ने कहा कि हमारी संस्कृति ने महिलाओं को कई नामों से पुकारा है। हमारी संस्कृति में महिलाओं के लिए विशेष प्रावधान रखा गया है इसलिए दुनिया हमें इस बारे में शिक्षा नहीं दे सकती है। उन्होंने कहा कि सामाजिक धारणाओं को बदलने की आवश्यकता है।

 

 उच्चतर शिक्षा के संयुक्त निदेशक अशित कुमार ने राज्यपाल का स्वागत किया और कहा कि प्रदेश में वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर 78 हजार 480 छात्राएं शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उच्चतर शैक्षणिक संस्थानों में 60 प्रतिशत से अधिक छात्राएं हैं जो यह प्रदर्शित करता है कि प्रदेश में बालिकाओं की शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

 

पोर्टमोर विद्यालय की प्रधानाचार्य नरेन्द्रा सूद ने राज्यपाल को सम्मानित किया और विद्यालय में आने के लिए उनका आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर छात्राओं ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया। महिला एवं बाल विकास विभाग की अतिरिक्त निदेशक एकता कापटा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

हिमाचलियों को विदेशी रहन सहन समझने में मदद करेगी हिमाचली प्रवासी ग्लोबल एसोसिएशन 

कनाडा में मदद : हिमाचलियों को विदेशी रहन सहन समझने में मदद करेगी हिमाचली प्रवासी ग्लोबल एसोसिएशन 

न्यायमूर्ति सुरेश्वर ठाकुर की गरिमापूर्ण विदाई

फुल कोर्ट रेफरेंस आयोजित : न्यायमूर्ति सुरेश्वर ठाकुर की गरिमापूर्ण विदाई

राज्यपाल सचिवालय में ई-ऑफिस कार्यान्वित

500 फाइलें ऑनलाइन : राज्यपाल सचिवालय में ई-ऑफिस कार्यान्वित

पुलिस स्मृति दिवस पर राज्यपाल ने पुष्पांजलि अर्पित की

सर्वोच्‍च बलिदान को नमन : पुलिस स्मृति दिवस पर राज्यपाल ने पुष्पांजलि अर्पित की

आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से संबंधित 28 शिकायतों का निपटारा

हिमाचल उपचुनाव : आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से संबंधित 28 शिकायतों का निपटारा

महर्षि वाल्‍मीकि का हमारी संस्‍कृति में सर्वोच्‍च स्‍थान: राज्‍यपाल

वाल्मीकि मंदिर में की पूजा-अर्चना : महर्षि वाल्‍मीकि का हमारी संस्‍कृति में सर्वोच्‍च स्‍थान: राज्‍यपाल

हिमाचल के मुख्‍य न्‍यायाधीश ने सुलभ, त्वरित और लागत प्रभावी न्याय प्रदान करने पर बल दिया

फुल कोर्ट रेफरेंस का आयोजन : हिमाचल के मुख्‍य न्‍यायाधीश ने सुलभ, त्वरित और लागत प्रभावी न्याय प्रदान करने पर बल दिया

हिमाचल की 55 फीसदी पात्र आबादी को लगाई जा चुकी है वैक्सीन की दूसरी डोज़

कोविड-19 टीकाकरण : हिमाचल की 55 फीसदी पात्र आबादी को लगाई जा चुकी है वैक्सीन की दूसरी डोज़

VIDEO POST

View All Videos