Wednesday, July 24, 2024
BREAKING
सरकारी स्‍कूलों में छात्रों की भारी गिरावट पर सीएम चिंतित, स्कूल होंगे मर्ज मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया सभी वर्गों के सशक्तिकरण का साधन है केंद्रीय बजट: जयराम ठाकुर नादौन में 100 पदों के लिए इंटरव्‍यू 24 को, वेतन 16157 रुपये परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री सीएम ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया कांगड़ा में एटीएम चोरी के प्रयास में कोहाला के तीन युवक दबोचे हिमकेयर योजना के तहत की गई 100 करोड़ रुपये की प्रतिपूर्ति: संजय अवस्‍थी जयराम झूठे, 2023-2024 में शगुन योजना के तहत 4,662 बेटियों को दिए 14.45 करोड़: शांडिल ऊना और हमीरपुर में नौकरी का मौका, कंपनियां भरेंगी विभिन्‍न ट्रेडों के कई पद
 

'आई लोहड़ी गया स्याल कोहढ़ी’

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Tuesday, January 12, 2021 23:03 PM IST
'आई लोहड़ी गया स्याल कोहढ़ी’

ऊना। भाषा एवं संस्कृति विभाग जिला ऊना द्वारा मकर संक्रांति पर्व के उपलक्ष्य पर ऑनलाइन कवि सम्मेलन का आयोजन करवाया गया। जिसमें जिले के प्रतिष्ठित 19 कवियों ने भाग लिया। साहित्यकारों ने लोहड़ी पर्व के अवसर पर अपनी-अपनी कविताओं द्वारा हर्षोलास की अभिव्यक्ति की तथा जिला भाषा अधिकारी ऊना द्वारा कवियों व साहित्यकारों का स्वागत किया गया। इस अवसर पर बलविंद्र सिंह घनारी ने 'आओ लोहड़ी मनाएं’ 'साले-साले लोहड़ी आई’ ’सानु अम्मा बापु याद करन ओ’ कविता पढ़कर सुनाई। ओंकार प्रसाद डांग ने ’खिल खिला कर हंसी फिर’, ’एक दम गंभीर मुद्रा में लाश’ बन कविता सुनाई। डा. योगेश चंद्र सूद ने ’लोहड़ी का त्योहार’ नववर्ष का उपहार कविता पढ़ी। केएल बैंस ने ’आप हो मात्र एक वोट’, य’ारो मेरी बात कर लेना नोट’, नेताओं की यही है सोच आप हो मात्र एक वोट कविता पढ़ी। सूरम सिंह ने ’आई लोहड़ी गया स्याल कोहढ़ी’, कविता सुनाई।

डा. कुलदीप सिंह ’नई नकोरी कापी 365 पन्नों की नामक कविता पढ़कर नववर्ष में नए संकल्प लेने का संदेश दिया। संतोष शर्मा ने ’बचपने ते दिख्खा दे अस्सीं ये लोहडि़यां दा त्योहार’ पहाड़ी भाषा में कविता सुनाई। ओम देवी सैणी ने ’मौसम में कुछ गर्मी आई लोहड़ी आई-लोहड़ी’ आई कविता सुनाई। सुधा पराशर ने ’लोहड़ी का त्योहार, मुबारक हो सबको लोहड़ी का त्योहार’ लाये आपके जीवन में उल्लास-कविता द्वारा अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त किया। ओम प्रकाश शर्मा ने ’इक पंजाब दा शहर’ भट्टी जिसका नाम था भठिंडा कविता द्वारा लोहडी़ पर्व पर प्रकाश डाला। सरोच ने ’दुविधा में ही जन्मी नारी दुविधा में ही रहती नारी मां बाप से डरती बिन पूछे कहीं जा नी’ सकती कविता पढ़ी। देसराज मोदगिल ने अपने जितने भी त्योहार भारत माता का श्रृंगार नामक कविता पढ़ी। अंकुश शर्मा ने ’बोलता हूं भ्रष्टाचार के खिलाफ ’ नामक कविता पढ़ी। राजपाल कुटलैहडि़या ने ’धुंआ ही धुंआ’ नामक कविता गाकर सुनाई।

अंतरराष्‍ट्रीय साहित्य महोत्सव का आयोजन शिमला में 16 से 18 जून तक

प्रवेश होगा निशुल्‍क : अंतरराष्‍ट्रीय साहित्य महोत्सव का आयोजन शिमला में 16 से 18 जून तक

मुख्यमंत्री ने कविता संग्रह हाशिये वाली जगह का विमोचन किया

हिमतरू प्रकाशन : मुख्यमंत्री ने कविता संग्रह हाशिये वाली जगह का विमोचन किया

सब खुश थे सुनकर जंग की बातें, मगर इधर पहरों मुंह में निवाला नहीं गया...

कवियों ने किया साहित्य उत्सव सराबोर : सब खुश थे सुनकर जंग की बातें, मगर इधर पहरों मुंह में निवाला नहीं गया...

साहित्य उत्सव शुरू, देश के वरिष्ठ साहित्यकारों से सीधा संवाद

दलाईलामा ने भेजा संदेश : साहित्य उत्सव शुरू, देश के वरिष्ठ साहित्यकारों से सीधा संवाद

कितने मशहूर हो गये हो क्या, खुद से भी दूर हो गये हो...

कवि साम्‍मेलन आयोजित : कितने मशहूर हो गये हो क्या, खुद से भी दूर हो गये हो...

मल्लिका नड्डा ने पद्मश्री के लिए ललिता और विद्यानंद को बधाई दी

सम्‍मान : मल्लिका नड्डा ने पद्मश्री के लिए ललिता और विद्यानंद को बधाई दी

सोची-समझी साजिश के तहत विकृत किया गया भारतीय इतिहास: धूमल

राष्ट्रीय परिसंवाद एवं वेबीनार : सोची-समझी साजिश के तहत विकृत किया गया भारतीय इतिहास: धूमल

युवा पीढ़ी को उपलब्‍ध करवाई जाए ऐतिहासिक घटनाओं की सही डॉक्यूमेंटेशन:राज्यपाल

नेरी शोध संस्‍थान में परिसंवाद : युवा पीढ़ी को उपलब्‍ध करवाई जाए ऐतिहासिक घटनाओं की सही डॉक्यूमेंटेशन:राज्यपाल

VIDEO POST

View All Videos
X