Tuesday, April 23, 2024
BREAKING
शिमला में चार साल की मासूम से दुष्‍कर्म चंबा फ़र्स्ट के लिए मोदी ने चंबा को आकांक्षी ज़िला बनाया : जयराम ठाकुर बिकाऊ विधायक धनबल से नहीं जीत सकते उपचुनाव : कांग्रेस तीन हजार रिश्‍वत लेते रंगे हाथों दबोचा एएसआई 23 वर्षीय युवती ने फंदा लगाकर की आत्‍महत्‍या सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च: मुख्यमंत्री युवक ने दिनदिहाड़े छात्रा पर किए दराट के एक दर्जन वार, हालत गंभीर पीजीआई रेफर राज्य सरकार के प्रयासों से शिंकुला टनल को मिली एफसीए क्लीयरेंस: सीएम कांग्रेस नेताओं ने कई मुद्दों पर भाजपा को घेरा, बोले भाजपा नेता कर रहे गुमराह स्वदेशी क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण
 

बहन की नाबालिग सहेली से दुष्कर्म के दोषी युवक को 20 साल कठोर कारावास और जुर्माना

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Saturday, February 25, 2023 18:54 PM IST
बहन की नाबालिग सहेली से दुष्कर्म के दोषी युवक को 20 साल कठोर कारावास और जुर्माना

मंडी,25 फरवरी। माननीय विशेष न्यायाधीश (पोक्सो), जिला मंडी की अदालत ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने के दोषी को विभिन्न धाराओं में 20 साल के कठोर कारावास की सजा के साथ जुर्माने की सजा सुनाई है। उप जिला न्यायवादी नवीना राही ने यह जानकारी देते हुए बताया कि 28.03.2018 को पीड़िता की माता और पिता ने पीड़िता (16 वर्ष) के साथ आकर पुलिस थाना में शिकायत दर्ज करवाई कि पीड़िता अपनी सहेली के साथ मेला दिखने गई थी। मेला देखने के बाद रात को तकरीवन 9 बजे आरोपी जो कि पीड़िता की सहेली का भाई था वह पीड़िता को अपनी कार में बिठा कर ले गया और कार के भीतर पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया।

 

इसके बारे में पीड़िता ने किसी को भी नहीं बताया था। मुकदमा दर्ज होने के 3-4 दिन पहले पीड़िता को घर में अचानक उल्टी व पेट दर्द हुआ, तो पीड़िता की माँ पीड़िता को चैकअप हेतु सरकारी अस्पताल ले गई वहां डॉक्‍टर की जांच में पता चला कि पीड़िता गर्भवती है। इस पर पीड़िता ने सारी घटना की जानकारी अपने स्‍वजनों को दी। साथ ही बताया कि आरोपी ने उससे शादी का वादा किया था और पीड़िता के उक्त बयान पर पुलिस थाना में दोषी के खिलाफ अभियोग संख्या 210/2018 दिनाँक 08.09.2018 दर्ज किया। छानबीन पूरी होने पर थानाधिकारी ने मामले का चालान अदालत में दायर किया।

 

अदालत में सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष ने 29 गवाहों के ब्यान कलमबंद करवाए। मामले की पैरवी उप जिला न्यायवादी चानन सिंह ने की। अभियोजन एवं बचाव पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने दोषी को भारतीय दंड सहिंता की धारा 363 के तहत 5 वर्ष के कठोर कारावास की सजा के साथ ₹5,000/- जुर्माने की सजा, धारा 376 के तहत 20 वर्ष के कठोर कारावास के साथ ₹50,000/- जुर्माने की सजा और पोक्सो अधिनियम की धारा 6 के तहत 20 वर्ष के कठोर कारावास की सजा के साथ ₹50,000/- जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना अदा न करने की सूरत में अदालत ने दोषी को 6 माह के अतिरिक्त कठोर कारावास की सजा भी सुनाई है। ये सभी सजाएं एक साथ चलने के आदेश भी दिए हैं।

VIDEO POST

View All Videos
X