Thursday, June 20, 2024
BREAKING
डॉ राजेश शर्मा को सीएम आवास में बंधक बनाकर बात मनवाना शर्मनाक:जयराम ठाकुर श्रीलंका में जाइका प्रोजेक्ट का मॉडल बनेगा हिमाचल, धर्मशाला-पालमपुर पहुंचे 11 प्रतिनिधि बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए 3 पूर्व निर्दलीय विधायक: मुख्यमंत्री सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा इस्तीफ़ा: जयराम ठाकुर कांग्रेस ने देहरा विस उपचुनाव में सीएम की पत्‍नी कमलेश ठाकुर को मैदान में उतारा सरकारी विभागों में 6630 पद भरेे जाएंगे, कांस्‍टेबल भर्ती की आयु सीमा में 1 साल की छूट कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित होगा सेंटर ऑफ एक्सीलेंस: मुख्यमंत्री कहां गई सुक्खू सरकार की स्टार्टअप योजना: जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री ने एनआरआई दम्पति पर हमले की कड़ी निंदा की, कार्रवाई के निर्देश गलत साइड से ओवरटेक करते ट्रक से टकराई बाइक, युवक की मौत
 

एचआरटीसी चालक को चलती बस में आया हार्ट अटैक, मरने से पहले बचाई कई जिंदगियां

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Thursday, May 25, 2023 17:31 PM IST
एचआरटीसी चालक को चलती बस में आया हार्ट अटैक, मरने से पहले बचाई कई जिंदगियां

सराज(मंडी), 25 मई। हिमाचल पथ परिवहन निगम की मंडी से सराची रूटी पर चलने वाली बस के चालक को चलती बस में दिल का दौरा पड़ गया, मगर मरने से पहले वह बस में मौजूद दर्जनों सवारियों की जान बचा गया। मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को एचआरटीसी की बस नंबर एचपी65ए0820 में चालक सोहन लाल उर्फ सोनू ठाकुर बस को सराची की ओर चलाकर ले जा रहा था कि तभी थुनाग से करीब 40 किलोमीटर दूर बागा चुनौगी में चालक को उल्टी का मन किया और उसकी तबीयत बिगड़ गई। चालक ने बिना देर किए बस को किनारे खड़ा किया और पास के ढाबे में जाकर पीने के लिए पानी मांगा।

 

इस दौरान उसने बस के कंडक्‍टर से छाती में दर्द की बात कही तो कंडक्टर ने देरी ना करते हुए सोहन लाल को अन्य लोगों की मदद से पास के पीएचसी में पहुचाया। यहां के डॉक्टरों ने सोहन लाल को मेडिकल कॉलेज नैरचौक रेफर कर दिया, मगर मेडिकल कॉलेज पहुंचने से पहले ही सोहन लाल को फिर से दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई। नैरचौक के डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। चालक सोहनलाल डडौह, तहसील चच्योट का रहने वाला था और उसकी तीन‌ छोटी-छोटी बेटियां हैं।

 

बताया जा रहा है कि चालक को बस चलाते समय चैढ़ा खड्ड में ही हार्ट अटैक आया था, जिससे उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। उसने बेहोश होने से पहले बस को सुरक्षित बागा चुनौगी में पहुंचा कर खड़ा कर दिया। तब बस सवारियों से खचाचाख भरी हुई थी। वहीं बागा चुनौगी में भी स्कूल के करीब 35 से ज्यादा बच्चे भी बस में बैठे गए थे। बस में सफर कर रही सवारियों कहा कहना था कि अगर चालक बागा चुनौगी बस खड़ी ना करता तो बस में मौजूद 60 से ज्यादा सवारियां खड़ी चढ़ाई और तीखे ढांक के चलते बड़े हादसे का शिकार हो सकती थीं। चालक ने समय रहते बस रोक कर कई जिंदगियां बचा लीं, मगर अफसोस कि उसकी जान ना बचाई जा सकी।           

VIDEO POST

View All Videos
X