Friday, October 22, 2021
BREAKING
हिमाचलियों को विदेशी रहन सहन समझने में मदद करेगी हिमाचली प्रवासी ग्लोबल एसोसिएशन  डीसी ने हमीरपुर अस्पताल में किया दो अत्याधुनिक मशीनों का लोकार्पण मां के पास खेल रही बच्ची को छीन ले गई मौत, टैंक में मिला शव न्यायमूर्ति सुरेश्वर ठाकुर की गरिमापूर्ण विदाई शादी से लौटते समय बारात की कार पेड़ से टकराई, दो युवकों की मौत, 3 घायल बहुतकनीकी संस्थान चंबा में दी एंटी रैगिंग एक्‍ट की जानकारी उपचुनावों में कांग्रेस का मुकाबला आजाद प्रत्‍याशियों से, भाजपा तीसरे नंबर पर: डॉ. राजेश कांग्रेस के पास न तो कोई नेता है ओर नही नीति: त्रिलोक कपूर राज्यपाल सचिवालय में ई-ऑफिस कार्यान्वित आईटीआई जोगिंद्रनगर के प्रशिक्षुओं ने निकाली बाईक रैली

सभी विपक्षी दलों से दस कदम आगे निकली आप

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Friday, December 04, 2020 23:31 PM IST
सभी विपक्षी दलों से दस कदम आगे निकली आप

- पूर्व आईएएस सुवर्धन और आईपीएस चैहान आप में शामिल
- आखिर क्षेत्रीय दल क्यों नहीं जोड़ पाए अच्छे लोग?
उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी तेजी से आगे निकल गयी है। प्रदेश स्तर पर अच्छा चेहरा न होने के बावजूद अच्छे लोग आम आदमी पार्टी से जुड़ रहे हैं। कल पूर्व आईएएस सुवर्धन और पूर्व आईपीएस अनंतराम चैहान ने आप ज्वाइन कर ली। पूर्व मेजर जनरल डा. सीके जखमोला पहले ही पार्टी से जुड़ चुके हैं। आप ने पौड़ी में अच्छी सेंघ लगाई है। देवप्रयाग से यूकेडी नेता गणेश भट्ट को तोड़कर आप ने यूकेडी अध्यक्ष दिवाकर भट्ट को ललकारा है। आप की यह पिछले दो-तीन महीने की उपलब्धि है।
कांग्रेस आपसी रार में है और वैसे भी कांग्रेस यदि रात-दिन एक भी करे तो उसे 2022 में मुश्किल से ही कुछ और सीटें मिलेंगी। क्षेत्रीय दलों का बुरा हाल है। यूकेडी, उपपा, उनपा, उप्रपा, सर्वजन स्वराज समेत अधिकांश दलों के पास न नेता हैं और विजन। सबसे अहम बात यह है कि क्षेत्रीय दल जनता के सामने कोई पालीटिकल एजेंड़ा लेकर गये ही नहीं। उनके पास रटी-रटाई समस्याएं और समाधान हैं, लेकिन धरातल पर कुछ नहीं है। न सदस्य, न संसाधन, न फंड, न नीति और न नेता। इसके बावजूद एकजुट होने को तैयार ही नहीं हैं।
विचारणीय बात है कि यूकेडी पिछले 20 साल में 20 अच्छे लोगों को पार्टी से नहीं जोड़ सकी है। गत वर्ष पूर्व आईएएस एसएस पांगती यूकेडी से जुड़े तो उनको पार्टी ने सर्वोच्च विशेषाधिकार समिति का अध्यक्ष बना दिया। मजेदार बात यह है कि यह पद पार्टी संविधान में है ही नहीं। पार्टी का नया संविधान तैयार किया गया लेकिन उस पर चर्चा के लिए पार्टी नेताओं के पास समय नहीं है। यूकेडी में जो नेता हैं, वो किसी बाहरी नेता के आने से डर जाते हैं कि कहीं उनका सिंहासन छीन न लिया जाएं तो वो किसी को पार्टी में आने ही नहीं देते। 1997 से ही पार्टी के नेता एक-दूसरे के साथ सिर-फुटोव्वल की तर्ज पर लड़ते रहे हैं। ऐसे में यूकेडी जनाधार बना ही नहीं सकी। अभी यूकेडी ने सदस्यता अभियान चलाया तो जानकारी मिली कि पार्टी के 21 हजार सदस्य बने। यानी पार्टी के पास पिछले 20 साल में एक लाख सदस्य भी नहीं हैं। दूसरे क्षेत्रीय दलों के पास मुश्किल से एक हजार सदस्य भी नहीं होंगे। बेहतर होता कि ये सब दल मिलकर काम करते। लेकिन अहम और पदों की लड़ाई के आगे ये नेता और दल उसी डाल को काट रहे हैं, जिस पर बैठे हैं।
यदि क्षेत्रीय दलों का यही हाल रहा तो यह तय मान लीजिए कि 2022 में भाजपा और आम आदमी पार्टी के बीच सीधा मुकाबला होगा।
[वरिष्‍ठ पत्रकार गुणानंद जखमोला की फेसबुक वॉल से साभार]

आखिर मुख्यमंत्री बीच में ही क्यों बदले जाते हैं?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : आखिर मुख्यमंत्री बीच में ही क्यों बदले जाते हैं?

ऐसी आजादी का अर्थ क्या है? जो 40 दलित परिवारों को अपना गांव छोड़कर भागना पड़ा

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : ऐसी आजादी का अर्थ क्या है? जो 40 दलित परिवारों को अपना गांव छोड़कर भागना पड़ा

कोरोना प्रोटोकॉल बनाम आम जनता, राजनीतिक गतिविधियां कोविड फ्री

संपादकीय : कोरोना प्रोटोकॉल बनाम आम जनता, राजनीतिक गतिविधियां कोविड फ्री

काबुलः भारत की बोलती बंद क्यों है?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : काबुलः भारत की बोलती बंद क्यों है?

मोदी के सपने अच्छे लेकिन....?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : मोदी के सपने अच्छे लेकिन....?

एक पहलवानः कई लकवाग्रस्त मरीज़

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : एक पहलवानः कई लकवाग्रस्त मरीज़

मेरी जाति हिंदुस्तानी की जीत..राज्यों को मिला ओबीसी की जन-गणना करवाने का अधिकार

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : मेरी जाति हिंदुस्तानी की जीत..राज्यों को मिला ओबीसी की जन-गणना करवाने का अधिकार

शादियों में मजहब का अड़ंगा?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : शादियों में मजहब का अड़ंगा?

VIDEO POST

View All Videos