Wednesday, February 08, 2023
BREAKING
समुचित बजट प्रावधान करके लागू की पुरानी पेंशन योजना: मुख्यमंत्री श्रीमद्भगवद्गीता की प्रेरणा से अपनी कर्मनीति बना आगे बढ़ रही सरकार: सुक्खू मुख्यमंत्री ने नादौन और हमीरपुर विस क्षेत्र की विकासात्मक परियोजनाओं की समीक्षा की तुर्की के भूकंप प्रभावित के लिए एनडीआरएफ की दो टीम तैनात केवल सिंह पठानिया ने रैत स्कूल में नवाज़े होनहार कंप्यूटर हार्डवेयर सर्विस और मेंटेनेंस विषय पर 30 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम 9 से जन कल्याणकारी योजनाओं के प्रभावी प्रचार-प्रसार में नवीनतम माध्यमों का करें प्रयोग: संजय अवस्थी कारों की बैटिरयां चुराने वाला गिरोह दबोचा, 28 बैटरियां बरामद विश्व बैंक ने हिमाचल में वित्‍त पोषित परियोजनाओं की समीक्षा की विश्व बैंक की हिमाचल के 2500 करोड़ रुपये के ग्रीन रेजीलिएंट इंटेग्रेटिड प्रोग्राम में रूचि
OPS Advt

धन शोधन मामले में लंदन स्थित होटल कुर्क

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Friday, July 30, 2021 17:18 PM IST
धन शोधन मामले में लंदन स्थित होटल कुर्क

नई दिल्ली, 30 जुलाई। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को कहा कि उसने भवन निर्माता कंपनी यूनीटेक समूह और इसके प्रवर्तकों, संजय चंद्रा तथा अजय चंद्रा के खिलाफ धन शोधन की जांच के सिलसिले में लंदन स्थित 58.61 करोड़ रुपये मूल्य का एक होटल कुर्क किया है। ‘बेड ऐंड ब्रेकफास्ट’ नाम के इस होटल का स्वामित्व इबॉर्नशोर्न लिमिटेड नाम की कंपनी के पास है जो कार्नौस्ती समूह की ब्रिटेन स्थित सहायक कंपनी है।

 

 

ईडी ने संपत्ति कुर्क करने के लिए धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत एक अस्थायी आदेश जारी किया था। यह मामला, मकान खरीदारों द्वारा यूनीटेक समूह और इसके प्रवर्तकों के खिलाफ दिल्ली पुलिस आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) के पास दर्ज कराई गई कई प्राथमिकियों पर आधारित है। एजेंसी ने यहां एक बयान में दावा किया कि मकान खरीददारों के 325 करोड़ रुपये कार्नौस्ती समूह को भेज दिए गए। इनमें से 41.3 करोड़ रुपये कार्नौस्ती समूह, इंडिया और इनडिजाइन इंटरप्राइजेज प्रा. लि., साइप्रस के जरिए ब्रिटेन भेजे गए।

 

 

आरोप है कि इन रुपयों का इस्तेमाल कार्नौस्ती समूह से संबद्ध कंपनी कार्नौस्ती मैनेजमेंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नाम से इबॉनशोर्न लिमिटेड, ब्रिटेन के शेयर खरीदने में किया गया। ईडी ने यूनीटेक समूह और इसके प्रवर्तकों के खिलाफ इस साल की शुरूआत में पीएमएलए की विभिन्न धाराओं के तहत इस साल की शुरूआत में एक आपराधिक मामला दर्ज किया था। दरअसल, कंपनी और प्रवर्तकों--संजय चंद्रा तथा अजय चंद्रा पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने अवैध तरीके से 2,000 करोड़ रुपये साइप्रस और केमैन द्वीप भेजे। एजेंसी ने मामले में चार मार्च को शिवालिक समूह, त्रिकार समूह, यूनीटेक समूह और मुंबई एवं एनसीआर में कार्नौस्ती समूह के 35 ठिकानों पर छापे मारे थे। इस मामले में अब तक कुल 595.61 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की जा चुकी है क्योंकि इस तरह के तीन आदेश पहले भी जारी किए गए थे।

VIDEO POST

View All Videos
X