Wednesday, February 08, 2023
BREAKING
समुचित बजट प्रावधान करके लागू की पुरानी पेंशन योजना: मुख्यमंत्री श्रीमद्भगवद्गीता की प्रेरणा से अपनी कर्मनीति बना आगे बढ़ रही सरकार: सुक्खू मुख्यमंत्री ने नादौन और हमीरपुर विस क्षेत्र की विकासात्मक परियोजनाओं की समीक्षा की तुर्की के भूकंप प्रभावित के लिए एनडीआरएफ की दो टीम तैनात केवल सिंह पठानिया ने रैत स्कूल में नवाज़े होनहार कंप्यूटर हार्डवेयर सर्विस और मेंटेनेंस विषय पर 30 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम 9 से जन कल्याणकारी योजनाओं के प्रभावी प्रचार-प्रसार में नवीनतम माध्यमों का करें प्रयोग: संजय अवस्थी कारों की बैटिरयां चुराने वाला गिरोह दबोचा, 28 बैटरियां बरामद विश्व बैंक ने हिमाचल में वित्‍त पोषित परियोजनाओं की समीक्षा की विश्व बैंक की हिमाचल के 2500 करोड़ रुपये के ग्रीन रेजीलिएंट इंटेग्रेटिड प्रोग्राम में रूचि
OPS Advt

कोरोना प्रोटोकॉल बनाम आम जनता, राजनीतिक गतिविधियां कोविड फ्री

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Sunday, August 22, 2021 09:32 AM IST
कोरोना प्रोटोकॉल बनाम आम जनता, राजनीतिक गतिविधियां कोविड फ्री
scroll.in

जिस तरह से प्‍यार और जंग में सबकुछ जायज होता है, उसी तरह राजनीति में भी सबकुछ जायज कर दिया गया है। यहां बात कोविड-19 प्रोटोकॉल के मामले में आम जनता और राजनीतिक दलों में हो रहे भेदभाव को लेकर है। हमारा देश कारोना की विभिषिका की दो लहरों में से गुजर चुका है और लाखों लोगों की जान गवां चुका है। देश का कोई भी राज्‍य ऐसा नहीं है, जहां कोरोना ने व्‍यवस्‍था को चुनौती ना दी हो, मगर हमारे राजनीतिक दल ऐसे हालात में भी राजनीति फायदे के लिए रैलियां, जनसभाएं और रोड शो करने से बाज नहीं आ रहे। जनता की दुकानें और कारोबार भले ही बंद करवाए गए हों, मगर इनकी राजनीतिक दुकानदारी बेरोकटोक चलती रही है।

 

देश की राजनीति की हालत यहां की चुनाव व्‍यवस्‍था में खामी(एक साथ चुनाव ना होना) के चलते इतनी बिगड़ चुकी है कि राजनीतिक दल चाहें भी तो भी वो कोविड माहामारी के इस दौर में कार्यकर्ताओं या कहें वोटरों से दो गज दूर बना कर नहीं रह सकते। कोरोना के इस दौर में देश में जहां लोग आक्‍सीजन के लिए तड़प-तड़प कर जिंदगियां खो रहे थे, तो दूसरी ओर देश में चुनावों का दौर राजनीति को ऑक्‍सीजन दे रहा था। हालांकि हमारे संविधान के मुताबिक जिन-जिन प्रदेशों में सरकारों का कार्यकाल समाप्‍त हो गया है, वहां चुनाव करवाना चुनाव आयोग का संवैधानिक दायित्‍व है, मगर जब वैश्‍विक महामारी के चलते देश में लाखों लाशें बिछी हों, शहरों के शहर और देशों के देश थम गए हों, तो ऐसे में क्‍या संविधान में संशोधन नहीं हो सकता या कहें ऐसा कोविड प्रोटोकॉल नहीं बनाया जा सकता, जो कोरोनो को फैलने से रोकने के लिए राजनीतिक रैलियों, जनसभाओं और रोड शो को पूरी तरह प्रतिबंधित करके सुरक्षित चुनाव करवाए या चुनावों को कुछ समय के लिए टाला जाए।

 

फिलहाल ऐसा अब तक तो होता नहीं दिख रहा, देश ने कोरोना का दूसरा दौर पीछे छोड़ दिया है, अब तीसरी लहर को लेकर तैयारी चल रही है। ऐसे में कुछ प्रदेशों में चुनाव और उपचुनाव की तैयारियों ने भी जोर पकड़ लिया है। राज्‍य सरकारें आम जनता पर तो कोविड-19 प्रोटोकॉल को लागू करने के लिए कड़े दिशानिर्देश तो थोप रही हैं, मगर खुद पर और अपने राजनीतिक दलों की भीड़ एकत्रित करने वाली गतिविधियों को कोरोना मुक्‍त मानती हैं। उत्‍तराखंड, पंजाब, उत्‍तर प्रदेश, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, गोवा, मणिपुर में अलगे साल आने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर राजनीति उफान में है और कोरोना फैलने की ताक में। तो वहीं हिमाचल सहित कुछ राज्‍यों में इसी साल में संभावित उपचुनावों को लेकर भी राजनीति हलचल जोरों पर है। जनसभाओं, रैलियों, रोड शो में सैकड़ों या कहें हजारों लोगों की भीड़ जुटाई जा रही है। कुछ नेता भी बेशर्मी से यह कहते नहीं थक रहे कि उनकी जनसभाओं, रैलियों, रोड शो से कोरोना नहीं फैल रहा, यह तो आम जनता शादियों, पार्टियों, बाजारों, समारोहों इत्‍यादि में कोरोना नियमों का पालन ना करके फैला रही है। यह दावा वैसा ही है जैसा दावा ऑक्‍सीजन की कमी से कोई मौत ना होने को लेकर किया जा रहा था। कुल मिलाकर यही कहा जा सकता है कि कानून बनाने वालों से कानून के पालन की उम्‍मीद कम ही है, लिहाजा जनता अपनी जान की सुरक्षा की जिम्‍मेवार खुद है। मास्‍क पहनें, दो गज की दूरी का पालन करें, वैक्‍सीन लगवाएं, भीड़भाड़ में जाने से बचें और स्‍वस्‍थ व सुरक्षित रहें। इन्‍हीं पंक्‍तियों में ही कोरोनाकाल में बचे रहने का जीवन तत्‍व मौजूद है।   

 

भारत की जी-20 अध्यक्षता: समावेशी विकास और सार्वभौमिक सह-अस्तित्व का संयोजन

वसुधैव कुटुंबकम : भारत की जी-20 अध्यक्षता: समावेशी विकास और सार्वभौमिक सह-अस्तित्व का संयोजन

आखिर मुख्यमंत्री बीच में ही क्यों बदले जाते हैं?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : आखिर मुख्यमंत्री बीच में ही क्यों बदले जाते हैं?

ऐसी आजादी का अर्थ क्या है? जो 40 दलित परिवारों को अपना गांव छोड़कर भागना पड़ा

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : ऐसी आजादी का अर्थ क्या है? जो 40 दलित परिवारों को अपना गांव छोड़कर भागना पड़ा

काबुलः भारत की बोलती बंद क्यों है?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : काबुलः भारत की बोलती बंद क्यों है?

मोदी के सपने अच्छे लेकिन....?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : मोदी के सपने अच्छे लेकिन....?

एक पहलवानः कई लकवाग्रस्त मरीज़

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : एक पहलवानः कई लकवाग्रस्त मरीज़

मेरी जाति हिंदुस्तानी की जीत..राज्यों को मिला ओबीसी की जन-गणना करवाने का अधिकार

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : मेरी जाति हिंदुस्तानी की जीत..राज्यों को मिला ओबीसी की जन-गणना करवाने का अधिकार

शादियों में मजहब का अड़ंगा?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक की कलम से : शादियों में मजहब का अड़ंगा?

VIDEO POST

View All Videos
X