Tuesday, April 23, 2024
BREAKING
शिमला में चार साल की मासूम से दुष्‍कर्म चंबा फ़र्स्ट के लिए मोदी ने चंबा को आकांक्षी ज़िला बनाया : जयराम ठाकुर बिकाऊ विधायक धनबल से नहीं जीत सकते उपचुनाव : कांग्रेस तीन हजार रिश्‍वत लेते रंगे हाथों दबोचा एएसआई 23 वर्षीय युवती ने फंदा लगाकर की आत्‍महत्‍या सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च: मुख्यमंत्री युवक ने दिनदिहाड़े छात्रा पर किए दराट के एक दर्जन वार, हालत गंभीर पीजीआई रेफर राज्य सरकार के प्रयासों से शिंकुला टनल को मिली एफसीए क्लीयरेंस: सीएम कांग्रेस नेताओं ने कई मुद्दों पर भाजपा को घेरा, बोले भाजपा नेता कर रहे गुमराह स्वदेशी क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण
 

इस स्तनधारी ने दिया नई महामारी का खतरा, विषाणुओं की पहचान में जुटे वैज्ञानिक

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Wednesday, December 16, 2020 10:18 AM IST
इस स्तनधारी ने दिया नई महामारी का खतरा, विषाणुओं की पहचान में जुटे वैज्ञानिक

कोरोना वायरस जैसी महामारी के संभावित खतरे को भांपते हुए वैज्ञानिकों ने कुछ जंगली जानवरों में मौजूद विषाणुओं की पहचान करनी शुरू कर दी है। पहले चरण में चमगादड़ में मौजूद जानलेवा विषाणुओं को इकट्ठा करने और उनका अध्ययन करने का अभियान शुरू किया गया है। ताकि समय रहते उनसे बचाव के उपायों पर रिसर्च हो सके। यह बीड़ा ब्राजील में संचालित फिरोज्ज इंस्टीट्यूट ने उठाया है। कई वैज्ञानिकों का मानना है कि चमगादड़ कोरोना (COVID-19) के प्रकोप से जुड़ा था। इसके लिए ब्राजील की टीम ने पेड्रा ब्रांका पार्क को चुना है, जो उष्णकटिबंधीय क्षेत्र है जहां वायरस के फैलने की संभावना सबसे ज्यादा रहती है।


इस रिसर्च का लक्ष्य अब अन्य वायरस की पहचान करना है जो मनुष्यों में अत्यधिक संक्रामक और घातक हो सकते हैं लोगों को कभी भी संक्रमित करने से रोकने की योजना बनाने में भी यह रिसर्च कारगर साबित होगी। इसे संभावित वैश्विक महामारी से लड़ने की पहल के तौर पर देखा जा रहा है।


एक दूसरे से अत्यधिक जुड़े हुए इस संसार में एक स्थान पर फैलने वाली महामारी पूरे विश्व को खतरे में डाल देती है, ठीक उसी तरह जैसे कोरोनो वायरस ने किया था। ब्राजील की यह टीम इस सदी में एक दूसरी महामारी के जोखिम को कम करने के लिए दुनिया भर में अभियान चलाएगी। इनमें भारत भी शामिल होगा।


हालांकि कुछ लोगों के लिए यह बहुत जल्द अगले वैश्विक प्रकोप पर विचार करने जैसा हो सकता है, लेकिन कोरोना के विनाशकारी परिणामों से जूझ रही इस दुनिया को सतर्कता के साथ आगे बढ़ना जरूरी हो गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह रिसर्च किसी जानलेवा वायरस को जानवर से मानव तक पहुंचने से रोकने की स्थितियों का पता लगाएगीकोरोना महामारी ने दिखाया है कि आधुनिक परिवहन दुनिया के सभी कोनों में रोगज़नक़ों को कुछ ही घंटों में फैला सकता है और घनी आबादी वाले शहरों में आसानी से फैल सकता है।


दक्षिण भारत के वेल्लोर में क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. गगनदीप कंग के अनुसार, यह वायरस कब का है, यह सवाल नहीं है। उन्होंने पिछले शोध में बताया था कि भारत, यहां के उष्णकटिबंधीय जंगलों में आबादी के घनत्व और बढ़ते मानव और पशुधन के कारण यहां रहने वाले वन्यजीवों से विषाणुों के "स्पिलओवर" के लिए दुनिया में सबसे अधिक संभावना वाले स्थानों में से एक था।


यह कोई संयोग नहीं है कि कई वैज्ञानिक दुनिया के एकमात्र उड़ने वाले स्तनधारियों चमगादड़ों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। चमगादड़ को कई वायरस के लिए मूल या मध्यस्थ मेजबान माना जाता है, जिन्होंने हालिया महामारी को जन्म दिया है, जिसमें कोरोना (COVID 19), सारस (SARS), मर्स (MERS), इबोला (Ebola), निपाह (Nipah), हेंड्रा (Hendra) और मारबग (Marburg) वायरस शामिल हैं। 2019 के एक अध्ययन में पाया गया कि पांच सबसे आम स्तनधारी स्रोतों से उत्पन्न होने वाले वायरस चमगादड़ से मनुष्यों में सबसे अधिक वायरल हैं।

चमगादड़ एक विविध समूह है, जिसमें अंटार्कटिका को छोड़कर हर महाद्वीप में 1,400 से अधिक प्रजातियां पाई जाती हैं। लेकिन आम तौर पर कई ऐसे अनुकूलन होते हैं जो उन्हें वायरस ले जाने की अनुमति देते हैं जो मनुष्यों और पशुधन के लिए घातक होते हैं, जबकि न्यूनतम लक्षण स्वयं प्रदर्शित करते हैं - जिसका अर्थ है कि वे यात्रा करने में सक्षम हैं और उन वायरस को बढ़ाते हैं।


मोंटाना स्टेट यूनिवर्सिटी में चमगादड़ का अध्ययन करने वाले महामारी विज्ञानी की रिसर्च भी यह बताती है कि चमगादड़ में असामान्य प्रतिरक्षा प्रणाली होती है, जो उनकी उड़ने की क्षमता से संबंधित है। चमगादड़ उल्लेखनीय रूप से लचीला होता है। 30 से अधिक वर्षों तक जीवित रहने वाली कई प्रजातियों की तुलना में ऐसे छोटे स्तनधारियों के लिए यह अत्यधिक असामान्य है

कुछ अन्य बैट वैज्ञानिकों का मानना है कि कुछ विकासवादी मोड़ हैं जो चमगादड़ों को उड़ने के तनाव से उबरने में मदद करते हैं, उन्हें रोगजनकों के खिलाफ अतिरिक्त सुरक्षा भी देते हैं। कनाडा में मैकमास्टर यूनिवर्सिटी के एक वायरोलॉजिस्ट अरनजय बनर्जी ने कहा, चमगादड़ ने उड़ान के एक संपार्श्विक लाभ का विकास किया है, जो विज्ञान के लिए ज्ञात सबसे घातक विषाणुओं से निपटने के लिए प्रतिरोध है। बैनर्जी ने इसे एक कुशल डीएनए मरम्मत तंत्र कहा है उन्होंने कहा कि बैट इम्यून सिस्टम के रहस्यों को समझने में वैज्ञानिकों की काफी मदद कर सकते हैं। चमगादड़ और अन्य जानवर जो रोगजनकों को ले जाते हैं, वे मनुष्यों के लिए खतरा पैदा नहीं करते, जब तक कि एक स्पिलओवर घटना के लिए अनुकूल परिस्थितियां नहीं होती

 

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, बर्कले के एक रोग विशेषज्ञ कारा ब्रूक ने कहा, वायरस से हमें संक्रमित होने के लिए मेजबान से बाहर आना पड़ता है। उन्होंने कहा कि विशेष रूप से उष्णकटिबंधीय जंगलों जैसे जैव विविधता वाले क्षेत्रों में हम वन्यजीवों और मनुष्यों के बीच संपर्क की उच्च दर देख रहे हैं, जो स्पिलओवर के लिए अधिक अवसर पैदा कर रहे हैं। शायद यही कारण है कि ब्राजील के शोधकर्ताओं ने पेड्रा ब्रांका पार्क को चुना। वैज्ञानिक न केवल चमगादड़, बल्कि छोटे प्राइमेट्स, जंगली बिल्लियों और घरेलू बिल्लियों की भी पुष्टि कर रहे हैं, जिनके पास कोरोना (COVID 19) मामलों की पुष्टि है।


बहरहाल, विश्व को कोरोना जैसी महामारी से रोकने के लिए वैज्ञानिकों की यह पहल कितने कारगर परिणाम सामने लाएगी यह तो रिसर्च के नजीते ही बताएंगे, लेकिन कोरोना से जूझ रही दुनिया के लिए यह अच्छी खबर है।

VIDEO POST

View All Videos
X