Wednesday, July 24, 2024
BREAKING
सरकारी स्‍कूलों में छात्रों की भारी गिरावट पर सीएम चिंतित, स्कूल होंगे मर्ज मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया सभी वर्गों के सशक्तिकरण का साधन है केंद्रीय बजट: जयराम ठाकुर नादौन में 100 पदों के लिए इंटरव्‍यू 24 को, वेतन 16157 रुपये परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री सीएम ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया कांगड़ा में एटीएम चोरी के प्रयास में कोहाला के तीन युवक दबोचे हिमकेयर योजना के तहत की गई 100 करोड़ रुपये की प्रतिपूर्ति: संजय अवस्‍थी जयराम झूठे, 2023-2024 में शगुन योजना के तहत 4,662 बेटियों को दिए 14.45 करोड़: शांडिल ऊना और हमीरपुर में नौकरी का मौका, कंपनियां भरेंगी विभिन्‍न ट्रेडों के कई पद
 

जिभी : खूबसूरत पहाड़ों की घाटी,यहां है स्वर्ग सा सुकून

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Monday, November 30, 2020 08:37 AM IST
जिभी : खूबसूरत पहाड़ों की घाटी,यहां है स्वर्ग सा सुकून

जिभी (कुल्लू): कोरोना की झिक-झिक से थक चुके हैं और कुछ सुकून के पल बिताना चाहते हैं पहाड़ों की गोद में तो आपके लिए हिमाचल की जिभी वैली मुफीद जगह है। जिभी हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू में स्थित एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है। हरे भरे जंगल, नदियां, झरने और खूबसूरत पहाड़ यहां आने वालों के मानसपटल पर अमिट छाप छोड़ने के लिए मौजूद हैं। यहां बिताया एक-एक पल यादगार बनेगा यह हमारा दावा है।

 

अगर आप अपने परिवार या मित्रों या अकेले कुछ शांति भरे पल बिताना चाहते है तो जिभी से अच्छी आपके लिए कोई और जगह नहीं हो सकती। घने देवदार के वृक्ष, शांत मीठे पानी की झील और प्राचीन मंदिर  इस स्थान को बेहद आकर्षक बनाते हैं। जिभी की ताज़ी हवा में सांस लेना और यहाँ के वातावरण में रहकर पक्षियों की मीठी आवाज़ सुनना आपको प्रकृति की गोद में रहने जैसा महसूस कराता है। अगर आप किसी शांत जगह जाना चाहते है तो जिभी आपके लिए ही है। बहुत ही सुंदर और साफ-सुथरी जिभी वैली यहां आपको घर जैसा माहौल देगी।(MOREPIC2)

 

क्या-क्या है जिभी में देखने लायक

 (MOREPIC1\3)

यहाँ आप खुद खाना बना सकते हैं, घूम सकते हैं, ट्रैकिंग पर जा सकते हैं, जंगलों में बेखौफ घूम सकते हैं, पुरातन संस्कृति से रूबरू हो सकते हैं, खूबसूरत और आलौकिक झीलों का अवलोकन कर सकते हैं, झरनों के पानी में अठखेलियां कर सकते हैं, ऊंचे पहाड़ों पर स्थित राजशाही किला देख सकते हैं। बर्फ से लदे पहाड़ आपको जन्नत सा एहसास करवाने को तैयार हैं। यह सब बस उतना ही दूर है जितना आपका जिभी को मन में बसाकर घर से कदम कूच करना।

 

जिभी घूमने का बेस्ट टाइम

 

घूमने का सही समय आप पर निर्भर करता है कि आपको क्या पसंद है। मुझे सर्दियाँ पसंद है और में बर्फ में जाना पसंद करती हूँ तो जनवरी से मार्च तक का महीना उचित समय है। अगर आप हरियाली और फूल ज्यादा पसंद करते है तो आप मार्च से जून में जा सकते है। तिर्थन घाटी भी यहाँ से पास में है, अगर आप जाना चाहते है तो यह लगभग 15 कि.मी. दूर  है।

 

जिभी के आसपास में घूमने लायक पर्यटन स्थल

 (MOREPIC4)

जलोड़ी पास : जलोड़ी पास जिभी से 12 किलोमीटर की दूरी पर लगभग 3000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित एक बहुत खूबसूरत पर्यटन स्थल है। हरे देवदार के पेड़ों और चट्टानी पहाड़ियों से घिरा हुआ जलोड़ी पास साल के छह माह बर्फ से लदा रहता है। सर्द मौसम में यहाँ काफी बर्फबारी होती है। पहाड़ों की चोटियाँ बर्फ की सफेद चादर से ढकी रहती हैं। जलोड़ी पास की चोटियों से हिमालयन रेंज की चोटियां माने पांव के नीचे महसूस होती हैं। आसमान एकदम नीला और नीचे सफेद और देवदार से लदे पहाड़ों का नजारा कुछ अलग की आनंद देता है। पर्यटकों के लिए यहाँ आइस स्केटिंग का भी प्रबंध रहता है।

 

सिरोलसर झील: सेरोलसर झील छोटी परंतु सुंदर और आलौकिक है, जो जिभी से छह किलोमीटर दूर सोजा में स्थित है। यहां से जलोड़ी पास 5 किलोमीटर दूर है। यहां स्थानीय देवी बूढ़ी नागिन को समर्पित एक मंदिर भी है। देवी बूढी नागिन को इस क्षेत्र का संरक्षक कहा जाता है और ऐसा माना जाता है कि उनके सौ पुत्र थे। यह झील सभी ओर से ओक के वृक्षों से घिरी हुई है। सर्दियों में यहां काफी बर्फबारी होती है और इस झील का पानी भी बर्फ हो जाता है। यहां कैंपिंग की भी पूरी व्यवस्था है।

 

 

चैहनी कोठी किला: चैहणी कोठी  क्षेत्र के आराध्य देवता शृंगा ऋषि के नाम पर है। दावा किया जाता है कि सैकड़ों साल पुरानी काष्ठकुणी शैली की निर्मित इस कोठी में जोगनियां वास करती हैं। पहाड़ी पर स्थित करीब 90 फीट ऊंची चैहणी कोठी आज भी शोध का विषय है। इस मंदिर को हिमाचल का सबसे ऊंचा मंदिर माना जा रहा है। 

 

तीर्थन वैली : तीर्थन नदी के किनारे बसी इस वैली में पहुंच का आपको स्वर्ग की सैर का अनुभव होगा। बर्फ से लदे ऊंचे पहाड़ और बीच में बहती तीर्थन नदी के किनारे घूमने का आनंद आपको यहीं बस जाने को लालायित करेगा। ग्रेट हिमालयन नैशनल पार्क से सटी ये वैली आज पर्यटकों की पहली पसंद बनती जा रही है।

 

दिल्ली से कैसे पहुंचे जिभी


दिल्ली से मनाली तक बहुत सारी बसें रात भर चलती हैं। यह बसें आईएसबीटी दिल्ली से चलती हैं और सुबह औट सुरंग तक पहुँचा देती हैं। औट सुरगं से आपको जिभी के लिए 1000/- या 1200/- में टैक्सी आसानी मिल जाती है।

 

हवाई जहास से जिभी

 

जिभी का निकटतम हवाई अड्डा कुल्लू के भुंतर में स्थित है । परंतु मैं आपको यह सलाह दूंगा कि आप सड़क के रास्ते ही यहां जाएं क्योंकि फ्लाइट कम होने के कारण यहाँ की टिकट आपको काफी महंगी पड़ सकती है।

 

ट्रेन से जिभी

 

जिभी का निकटतम रेलवे स्टेशन शिमला और चंडीगढ़ है। जबकि चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन ज्यादा उचित रहेगा। यहाँ से आपके लिए मनाली के लिए बहुत सारी बस की सेवाएँ उपलब्ध हैं।

 

 

जिभी में खाना खाने की मशहूर जगह

 

 

यहाँ बहुत सारे कैफे हैं जैसे कि हरिओम कैफे, मदर्स कैफे, होप कैफे और यहाँ आपको बहुत सारे चाय के स्टॉल भी मिल जाएँगे। अगर आप कम भीड़-भाड़ वाले पहाड़ी क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो यह स्थान आपके लिए बहुत बढ़िया है।

...................

VIDEO POST

View All Videos
X