Wednesday, July 24, 2024
BREAKING
सरकारी स्‍कूलों में छात्रों की भारी गिरावट पर सीएम चिंतित, स्कूल होंगे मर्ज मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया सभी वर्गों के सशक्तिकरण का साधन है केंद्रीय बजट: जयराम ठाकुर नादौन में 100 पदों के लिए इंटरव्‍यू 24 को, वेतन 16157 रुपये परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री सीएम ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया कांगड़ा में एटीएम चोरी के प्रयास में कोहाला के तीन युवक दबोचे हिमकेयर योजना के तहत की गई 100 करोड़ रुपये की प्रतिपूर्ति: संजय अवस्‍थी जयराम झूठे, 2023-2024 में शगुन योजना के तहत 4,662 बेटियों को दिए 14.45 करोड़: शांडिल ऊना और हमीरपुर में नौकरी का मौका, कंपनियां भरेंगी विभिन्‍न ट्रेडों के कई पद
 

रिवालसर में नालंदा भारतीय बौद्ध धर्म के विषय पर राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Sunday, February 05, 2023 20:45 PM IST
रिवालसर में नालंदा भारतीय बौद्ध धर्म के विषय पर राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित

मंडी, 05 फरवरी। नांलदा बौद्ध परम्परा की भारतीय हिमालयी परिषद द्वारा आज रिवालसर में नालंदा भारतीय बौद्ध धर्म के विषय पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्व, बागवानी व जनजातीय विकास मंत्री जगत सिंह नेगी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए।

इस अवसर पर अपने संबोधन में जगत सिंह नेगी ने कहा कि मुझे आज गुरू पदमसंभव की पवित्र स्थली रिवालसर में नालंदा परम्परा पर आयोजित सम्मेलन में इसकी उपयोगिता को जानने का अवसर मिला है । उन्होंने कहा कि बौद्ध धर्म की आस्था आज पूरे विश्व में है और आज यह विकसित दुनिया में सबसे अधिक अध्ययन और अनुसरण किए जाने वाले धर्मों में से एक है । बौद्ध धर्म क्रोध पर विजय पाने तथा सभी को शांति का संदेश देता है।


उन्होंने कहा कि हमारे देश में अनेक धर्म है तथा सभी को अपने-अपने धर्म को मानने तथा उसका प्रचार व प्रसार करने का अधिकार है । वहीं हमारे संविधान में बौद्ध धर्म को भी प्रसार करने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन में धर्म गुरूओं द्वारा अपने उपदेश दिए जायेंगे जिसका फायदा हमें आने वाले समय में देखने को मिलेगा।


राजस्व, बागवानी व जनजातीय विकास मंत्री जगत सिंह नेगी ने कहा कि गौतम बुद्ध प्राचीन भारत के एक तपस्वी और आध्यात्मिक शिक्षक थे, जो 5वीं व 6वीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान रहते थे तथा उन्होंने ही बौद्ध धर्म की स्थापना की थी। उन्होंने भारतीय बौद्ध परम्परा पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन करने के लिए आयोजकों को बधाई दी तथा अपनी ऐच्छिक निधि से 5 लाख रुपये देने की घोषणा की।

 

विधायक रवि ठाकुर ने इस अवसर पर नालंदा परम्परा को आगे बढ़ाने तथा बौद्ध धर्म के रास्ते पर चलने का सभी से आह्वान किया। उन्होंने कहा कि धर्म गुरूओं का आर्शीवाद लेकर हम सभी को विश्व शांति की ओर अग्रसर होना होगा। उन्होंने आयोजन समिति को अपनी ऐच्छिक निधि से 3 लाख रुपये देने की घोषणा की। कार्यक्रम में नांलदा बौद्ध परम्परा की भारतीय हिमालयी परिषद के अध्यक्ष टी.के. लोचेन तुलकू रिनपोछे ने कहा कि बौद्ध भाषा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त हो चुकी है तथा राष्ट्रीय स्तर पर बौद्ध स्कूलों को मान्यता लेने के प्रयास किए जा रहे हैं।

 

इस अवसर पर में नांलदा बौद्ध परम्परा की भारतीय हिमालयी परिषद के उपाध्यक्ष जग चुप छोदेन, गेसे चोस्फेल जोपटा तथा हुक्म चंद नेगी ने भी अपने विचार रखे। नांलदा बौद्ध परम्परा की भारतीय हिमालयी परिषद के महासचिव मलिंग गौम्बू ने मुख्य अतिथि तथा अन्य का स्वागत किया। इस अवसर पर पूर्व मंत्री प्रकाश चौधरी, एसडीएम सदर रितिका जिंदल सहित प्रदेश के विभिन्न भागों से आए बौद्ध धर्म के अनुयायी उपस्थित थे।

अगर डायरेक्टर फ्लॉप तो सुपरस्‍टार हीरोइन की फ़िल्म फ्लॉप होना तय:सुक्‍खू

सीएम बोले : अगर डायरेक्टर फ्लॉप तो सुपरस्‍टार हीरोइन की फ़िल्म फ्लॉप होना तय:सुक्‍खू

मार्च के अंत तक आरम्भ किए जाएंगे 6 ग्रीन कॉरिडोर: सुखविंद्र सिंह सुक्‍खू

पूर्ण राज्‍यत्‍व दिवस : मार्च के अंत तक आरम्भ किए जाएंगे 6 ग्रीन कॉरिडोर: सुखविंद्र सिंह सुक्‍खू

संयुक्त निरीक्षण समिति ने जांची मंडी जिले में निर्माणाधीन सुरंगों की सुरक्षा व्यवस्था

सुरक्षा : संयुक्त निरीक्षण समिति ने जांची मंडी जिले में निर्माणाधीन सुरंगों की सुरक्षा व्यवस्था

मुख्यमंत्री ने मंडी जिला के 3800 आपदा प्रभावितों को वितरित किए 31 करोड़ रुपये

प्रथम किश्त : मुख्यमंत्री ने मंडी जिला के 3800 आपदा प्रभावितों को वितरित किए 31 करोड़ रुपये

मंडी पहुंचा जीएसआई दल, टारना में भूभौतिकीय कारकों का करेगा अध्ययन

सर्वेक्षण : मंडी पहुंचा जीएसआई दल, टारना में भूभौतिकीय कारकों का करेगा अध्ययन

मुख्यमंत्री और प्रियंका गांधी ने मंडी के देयोरी में बांटा आपदा पीड़ितों का दुःख-दर्द

ढांढस : मुख्यमंत्री और प्रियंका गांधी ने मंडी के देयोरी में बांटा आपदा पीड़ितों का दुःख-दर्द

भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के दल ने भूस्खलन-भूधंसाव के कारणों का पता लगाने को मंडी में किया सर्वे

निरीक्षण : भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के दल ने भूस्खलन-भूधंसाव के कारणों का पता लगाने को मंडी में किया सर्वे

मुकेश बोले पुनर्वास कार्यों को जल्द पूरा करेगी सरकार, विक्रमादित्‍य ने एनएचआईए अध्‍यक्ष से मांगी तत्‍काल मदद

न्‍यूज : मुकेश बोले पुनर्वास कार्यों को जल्द पूरा करेगी सरकार, विक्रमादित्‍य ने एनएचआईए अध्‍यक्ष से मांगी तत्‍काल मदद

VIDEO POST

View All Videos
X