Sunday, June 16, 2024
BREAKING
गलत साइड से ओवरटेक करते ट्रक से टकराई बाइक, युवक की मौत पुलिस की कार्यप्रणाली पर लग रहे आरोप दुर्भाग्यपूर्ण, संज्ञान लें सीएम: जयराम ठाकुर मुख्‍यमंत्री और हाईकमान पर छोड़ा हमीरपुर से कांग्रेस टिकट का फैसला सीएम कुर्सी बचाने में व्यस्त, प्रदेश में क़ानून-व्यवस्था तबाह : जयराम ठाकुर आईएफएम फिनकोच में भरें जाएंगे कासा सेल्ज़ अधिकारी और ब्रांच रिलेशन ऑफिसर के 150 पद मेधा प्रोत्साहन योजना के तहत कोचिंग फंड के लिए 23 जून तक करें आवेदन बौखलाहट में है भाजपा नेता, महिलाओं के खाते में जल्‍द डलेंगे 3 हजार: नरेश चौहान मुख्यमंत्री सुख-आश्रय योजना के अंतर्गत 14 बच्चों का प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों में दाखिला: सीएम प्रदेश के लोगों ने कांग्रेस को ठुकराया,  भाजपा को दिया समर्थन : जयराम ठाकुर नवर्विाचित विधायकों ने ली शपथ, सीएम भी शामिल हुए
 

पांगी घाटी में जुकारू उत्सव शुरू, राजा बलि से जुड़ी है कथा

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Monday, February 20, 2023 18:21 PM IST
पांगी घाटी में जुकारू उत्सव शुरू, राजा बलि से जुड़ी है कथा

पांगी(चंबा), 20 फरवरी। हिमाचल प्रदेश को देवभूमि कहा जाता है क्योंकि यहां की कण-कण में देवताओं का वास है। हिमाचल एक पहाड़ी और प्राचीन सभ्यता से जुड़ा हुआ स्थल है। यहां पर त्योहार और मेलों को स्थानीय लोग बड़े ही धूमधाम से मनाते हैं। जिला चंबा के जनजातीय क्षेत्र पांगी घाटी एक ऐसा ही इलाका है जो सर्दियों के मौसम में प्रदेश के अन्य हिस्सों से पूरा अलग-थलग हो जाता है। यहां खूब बर्फबारी होती है जिसके कारण यहां के रास्तों पर चारों तरफ बर्फ ही बर्फ 2 महीने तक रहती है। लोग अपने घरों में कैद हो जाते हैं। इस इलाके में स्थानीय लोग जुकारू उत्सव मनाते हैं जो पूरे 12 दिनों तक चलता है।

 

इस उत्सव के दौरान राजा बलि की पूजा की जाती है। स्थानीय लोगों का मानना है कि इस उत्सव के माध्यम से लोग आपस में गले मिलते हैं। "तगड़ा थीयां ना" कह कर मंगल कामना करते हैं। इस पूरे इलाके में सबसे ज्यादा पंगवाल समुदाय के लोग रहते है और क्षेत्र में इस उत्सव को बड़े धुमधाम से मनाते है।

जुकारु उत्सव मनाने की पीछे की कहानी

जुकारु उत्सव मनाने के पीछे एक पौराणिक परंपरा प्रचलित है जिसके अनुसार राजा बलि ने वामन अवतार भगवान विष्णु को तीनों लोक दान में दे दिया। इसी की याद में चंबा की पांगी घाटी के लोग यह उत्सव मनाते हैं। 12 दिन तक यह उत्सव मनाया जाता है और इस दौरान घरों को खूब सजाया जाता है। और स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं। इस उत्सव के दौरान सबसे पहले सिल्ह होता है। घरों को खास तरह की लिखावट की जाती है। बलिराज के चित्र बनाए जाते हैं और आटे की बकरे बनते हैं। रात को बलिराज की पूजा होती है।

जुकारु का अर्थ होता है बड़ों का सम्मान करना। इस उत्सव में पड़ीद के दिन राजा बलि के लिए प्राकृतिक जल स्रोत से पानी पिलाया जाता है और पड़ीद की सुबह होते ही जुकारू आरंभ हो जाता है। खुशियों के साथ उत्सव आगे बढ़ता है लोग बड़ों से आशीर्वाद लेते हैं और एक दूसरे से गले मिलते हैं। इस उत्सव के दौरान स्वांग नृत्य भी होता है। इस दिन नाग देवता की कारदार को स्वांग बनाया जाता है। वह लंबी दाढ़ी और मूंछ वाले मुकुट पहन के स्वांग मेले में जाते हैं। पंगवाल लोगों की संस्कृति की झलक भी यहां पर नजर आती है। हिमाचल प्रदेश का यह मेला पंगवाल समुदाय के बीच काफी महत्व रखता है।


चंबा जिले के जनजातीय क्षेत्र पांगी में हर साल मनाये जाने वाले जुकारू उत्सव इस वर्ष भी 21 फरवरी से समूचे पांगी घाटी में मनाया जा रहा है। इस त्यौहार को घाटी की सांस्कृतिक पहचान और शान कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी। इस त्यौहार पर घाटी की परंपरा कायम है जिसको तीन चरण में मनाया जाता है। सिलह, पड़ीद, मांगल यह त्यौहार फागुन मास की अमावस को मनाया जाता है। इस त्यौहार के कई दिनों पहले ही लोग इसकी तैयारियां करना शुरू कर देते हैं, घरों को सजाया जाता है। घर के अंदर लिखावट के माध्यम से लोक शैली को रेखांकित किया जाता है। विशेष पकवान मंण्डे के अतिरिक्त सामान्य पकवान के बनाए जाते हैं।

सिलह त्योहार के दिन घरों में लिखावट की जाती है बलिराज के चित्र बनाए जाते हैं दिन में मंण्डे आदि बनाए जाते हैं। रात को बलिराजा के चित्र की पूजा की जाती है तथा दिन में पकाया सारा पकवान तथा एक दीपक राजा बलि के चित्र के सामने रखा जाता है। रात को चरखा कातना भी बंद कर दिया जाता है सब लोग जल्दी सो जाते हैं। एक दंतकथा कथा के अनुसार भगवान विष्णु के परम भक्त प्रह्लाद के पोते राजा बलि ने अपने पराक्रम से तीनों लोगों को जीत लिया तो भगवान विष्णु को वामन अवतार धारण करना पड़ा।

राजा बलि ने वामन अवतार भगवान विष्णु को तीनो लोक दान में दे दिए। इससे प्रसन्न होकर विष्णु ने राजा बलि को वरदान दिया कि भूलोक में वर्ष में एक दिन उसकी पूजा होगी इसी परंपरा को घाटी के लोग राजा बलिदानों की पूजा करते आ रहे हैं। दूसरा दिन पडीद का होता है प्रात ब्रह्म मुहूर्त में उठकर लोग स्नानादि करके राजा बलि के समक्ष नतमस्तक होते हैं। इसके पश्चात घर के छोटे सदस्य बड़े सदस्यों के चरण वंदना करते हैं। बड़े उन्हें आशीर्वाद देते हैं राजा बलि के लिए पनघट से जल लाया जाता है लोग जल देवता की पूजा भी करते हैं।

इस दिन घर का मुखिया 'चूर' की पूजा भी करता है क्योंकि वह खेत में हल जोतने के काम आता है। सुबह होते ही 'जुकारू' आरंभ होता है जुकारू का अर्थ बड़ों के आदर से है। लोग एक दूसरे के घर मिलने जाते हैं इस त्यौहार का एक अन्य अर्थ यह है कि सर्दी तथा बर्फ के कारण लोग अपने घरों में बंद थे इसके बाद सर्दी काम होने लग जाती है लोग इस दिन एक दूसरे के गले मिलते हैं तथा कहते हैं तकडा' 'थिया' न और जाने के समय कहते हैं मठे' 'मठे' विश। लोग सबसे पहले अपने बड़े भाई के पास जाते हैं उसके बाद अन्य संबंधियों के पास जाते है। तीसरा दिन मांगल या ह्यपन्हेईह्ण के रूप में मनाया जाता है 'पन्हेई' किलाड़ परगने में मनाई जाती है जबकि साच परगना में 'मांगल' मनाई जाती है।
'मांगल' तथा 'पन्हेई' में कोई विशेष अंतर नहीं होता मात्र नाम की ही भिन्नता है। मनाने का उद्देश्य एवं विधि एक जैसी ही है फर्क सिर्फ इतना है कि साच परगने मे मांगल जुकारू के तीसरे दिन मनाई जाती है तथा पन्हेई किलाड़ परगने में पांचवें दिन मनाई जाती है। मांगल तथा पन्हेई के दिन लोग भूमि पूजन के लिए निर्धारित स्थान पर इकट्ठा होते हैं इस दिन प्रत्येक घर से सत्तू घी शहद ह्यमंण्डेह्ण आटे के बकरे तथा जौ, गेहूं आदि का बीज लाया जाता है।
कहीं-कहीं शराब भी लाई जाती है अपने अपने घरों से लाई गई इस पूजन सामग्री को आपस में बांटा जाता है भूमि पूजन किया जाता है कहीं-कहीं नाच गान भी किया जाता है इस त्यौहार के बाद पंगवाल लोग अपने खेतों में काम करना शुरू कर देते हैं। इस मेले को 'उवान' 'ईवान' आदि नामों से भी जाना जाता है यह मेला कि किलाड़ तथा धरवास पंचायत में तीन दिन तक मनाया जाता है।

पहले दिन मेला राजा के निमित दूसरे दिन प्रजा के लिए मनाया जाता है और तीसरा दिन नाग देवता के लिए मनाया जाता है, यह मेला माघ और फागुन मास में मनाया जाता है। उवान के दौरान स्वांग नृत्य भी होता है इस दिन नाग देवता के कारदार को स्वांग बनाया जाता है लंबी लंबी दाढ़ी मूछ पर मुकुट पहने सिर पर लंबी-लंबी जटाएं हाथ में कटार लिए स्वांग को मेले में लाया जाता है दिन भर नृत्य के बाद स्वांग को उसके घर पहुंचाया जाता है इसी के साथ ईवान मेला समाप्त हो जाता है।

विधायक डॉ. जनक राज ने दी बधाई

भरमौर-पांगी विस क्षेत्र के विधायक डॉ. जनक राज ने जुकारू उत्सव के शुभ अवसर पर पांगी वासियों को शुभकामनाएं दी है । अपने संदेश में डॉ जनक राज ने कहा है कि जनजातीय क्षेत्र पांगी उपमंडल में मनाया जाने वाला जुकारू उत्सव पंगवाल समुदाय की गौरवमई व समृद्धशाली संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है । यह उत्सव पूरे प्रदेश में अपनी अलग ही पहचान बनाए हुए हैं । डॉ जनक राज ने समस्त पांगी वासियों को जुकारू उत्सव के दौरान पांगी घाटी के समस्त गांव के देव स्थलों में धार्मिक आयोजनों व मेले की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि आपसी भाईचारे व सामाजिक सौहार्द की अनूठी परंपराओं का निर्वहन आज के बदलते परिवेश में भी पांगी वासी बखूबी से करते आ रहे हैं । इससे ना केवल अपनी पारंपारिक विरासत का बखूबी पालन किया जा रहा है अपितु युवा पीढ़ी को भी अपनी मौलिक संस्कृति के अनमोल अंशो से रूबरू करवाया जा रहा है । गौरतलब है कि पखवाड़े तक चलने वाला जुकारू उत्सव मौनी अमावस्या को सिल्ह के नाम से शुरू होकर पूर्णमासी को स्वांग मेले के साथ संपन्न होता है । इस दौरान प्रतिदिन स्थानीय लोगों द्वारा देवी देवताओं की पूजा अर्चना करने के साथ विशेषकर दूसरे दिन धरती पूजन किया जाता है। 

 

भाजपा को सभी सीटें जिताकर कांग्रेस को सबक़ सिखाएंगे प्रदेश के लोग : जयराम ठाकुर

जनसभा : भाजपा को सभी सीटें जिताकर कांग्रेस को सबक़ सिखाएंगे प्रदेश के लोग : जयराम ठाकुर

पूरे प्रदेश में झूठी बयानबाज़ी और निजी हमले कर के वोट मांग रही है कांग्रेस: जयराम ठाकुर

प्रचार : पूरे प्रदेश में झूठी बयानबाज़ी और निजी हमले कर के वोट मांग रही है कांग्रेस: जयराम ठाकुर

भाजपा के सांसद कांगड़ा-चंबा की समस्याओं को प्रमुखता से उठाने में नाकाम सिद्ध हुए: सीएम

प्रचार : भाजपा के सांसद कांगड़ा-चंबा की समस्याओं को प्रमुखता से उठाने में नाकाम सिद्ध हुए: सीएम

भाजपा की सोच और भाषा संकुचित, देश और राज्‍यों में खींच रही लकीर: आनंद शर्मा

प्रचार : भाजपा की सोच और भाषा संकुचित, देश और राज्‍यों में खींच रही लकीर: आनंद शर्मा

डराना छोड़, अपने वायदों का लेखाजोखा जनता के समक्ष रखे भाजपा और पीएम मोदी: आनंद शर्मा

चुनाव प्रचार : डराना छोड़, अपने वायदों का लेखाजोखा जनता के समक्ष रखे भाजपा और पीएम मोदी: आनंद शर्मा

भटियात में कांग्रेस प्रत्याशी आनंद शर्मा का जोरदार स्वागत, उमड़ा जन सैलाब

चुनाव प्रचार : भटियात में कांग्रेस प्रत्याशी आनंद शर्मा का जोरदार स्वागत, उमड़ा जन सैलाब

पांगी और बंजार में सीएम का जयराम पर बड़ा हमला, बोले हार देख मैदान से हटे

प्रचार : पांगी और बंजार में सीएम का जयराम पर बड़ा हमला, बोले हार देख मैदान से हटे

खुलकर सामने आ रहे हैं कांग्रेस के आमजन विरोधी इरादे : जयराम ठाकुर

पन्ना प्रमुख सम्‍मेलन : खुलकर सामने आ रहे हैं कांग्रेस के आमजन विरोधी इरादे : जयराम ठाकुर

VIDEO POST

View All Videos
X