Thursday, February 22, 2024
BREAKING
पुलिस डाइट मनी में 5 गुणा बढ़ोतरी पर सीएम का आभार व्यक्त किया रास चुनाव में सीएम ने तीनों निर्दलीय विधायकों के समर्थन का दावा किया सीएम कह रहे योजनाएं बंद नहीं हुई तो सहारा योजना का भुगतान क्‍यों रूका: जयराम ठाकुर 102 अध्यापक जाएंगे विदेश, सीएम ने अंतरराष्ट्रीय भ्रमण कार्यक्रम का शुभारंभ किया एसपी के पद पर तैनात होंगे सात एचपीएस अधिकारी मुख्यमंत्री ने हिमाचल प्रदेश लैंड कोड के नवीन संस्करण का अनावरण किया बल्‍क ड्रग और मेडिकल डिवाइस पार्क पर उद्योगमंत्री और सीएम के अलग सुर: जयराम ठाकुर स्‍कूटी सवार हिमाचल पुलिस के एएसआई को रौंद फरार हुई कार, मौत होटल वाइल्ड फ्लावर हॉल मामला: सुप्रीम कोर्ट में भी जीती हिमाचल सरकार बिना बजट के घोषणाओं वाले हवा-हवाई सीएम बने सुक्खू : जयराम ठाकुर
 

उद्घाटन अवसर पर पीएम मोदी करेंगे नए संसद भवन में पवित्र सेन्गोल की स्थापना

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Wednesday, May 24, 2023 18:42 PM IST
उद्घाटन अवसर पर पीएम मोदी करेंगे नए संसद भवन में पवित्र सेन्गोल की स्थापना

नई दिल्‍ली, 24 मई। रविवार को इतिहास की पुनरावृत्ति होगी, जब नए संसद भवन को राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। इस दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी न्यायपूर्ण और निष्पक्ष शासन के पवित्र प्रतीक सेन्गोल को ग्रहण कर उसे नए संसद भवन में स्थापित करेंगे। यह वही सेन्गोल है जिसे भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 अगस्त, 1947 की रात को अपने आवास पर, कई नेताओं की उपस्थिति में स्वीकार किया था।

 

भारत की आजादी के उपलक्ष्य में हुए पूरे कार्यक्रम को याद करते हुए गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा, “आज आजादी के 75 साल बाद भी, अधिकांश भारत को इस घटना के बारे में जानकारी नहीं है। 14 अगस्त, 1947 की रात को वह एक विशेष अवसर था, जब जवाहर लाल नेहरू जी ने तमिलनाडु के थिरुवदुथुराई आधीनम (मठ) से विशेष रूप से पधारे आधीनमों (पुरोहितों) से सेन्गोल ग्रहण किया था। पंडित नेहरू के साथ सेन्गोल का निहित होना ठीक वही क्षण था, जब अंग्रेजों द्वारा भारतीयों के हाथों में सत्ता का हस्तांतरण किया गया था। हम जिसे स्वतंत्रता के रूप में मना रहे हैं, वह वास्तव में यही क्षण है।”

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने अमृत काल के राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में सेन्गोल को अपनाने का निर्णय लिया है। संसद का नया भवन उसी घटना का साक्षी बनेगा, जिसमें आधीनम उस समारोह की पुनरावृत्ति करेंगे और प्रधानमंत्री मोदी को सेन्गोल प्रदान करेंगे। केन्द्रीय गृह मंत्री ने आगे सेन्गोल के बारे में विस्तार से बताया। “सेन्गोल का गहरा अर्थ होता है। ‘‘सेन्गोल’’ शब्द तमिल शब्द "सेम्मई" से लिया गया है, जिसका अर्थ है "नीतिपरायणता"। इसे तमिलनाडु के एक प्रमुख धार्मिक मठ के मुख्य आधीनम (पुरोहितों) का आशीर्वाद प्राप्त है। ‘न्याय’ के प्रेक्षक के रूप में, अपनी अटल दृष्टि के साथ देखते हुए, हाथ से उत्कीर्ण नंदी इसके शीर्ष पर विराजमान हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सेन्गोल को ग्रहण करने वाले व्यक्ति को न्यायपूर्ण और निष्पक्ष रूप से शासन करने का ‘आदेश’ (तमिल में‘आणई’) होता है और यह बात सबसे अधिक ध्यान खींचने वाली है- लोगों की सेवा करने के लिए चुने गए लोगों को इसे कभी नहीं भूलना चाहिए।” 1947 के उसी सेन्गोल को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लोकसभा में अध्यक्ष के आसन के पास प्रमुखता से स्थापित किया जाएगा। इसे राष्ट्र के देखने के लिए प्रदर्शित किया जाएगा और विशेष अवसरों पर बाहर ले जाया जाएगा।

 

गृहमंत्री ने कहा कि इस ऐतिहासिक ‘‘सेन्गोल’ के लिए संसद भवन ही सबसे अधिक उपयुक्त और पवित्र स्थान है। ‘‘सेन्गोल’ ’की स्थापना 15 अगस्त, 1947 की भावना को अविस्मरणीय बनाती है। यह असीम आशा, अनंत संभावनाओं और एक सशक्त और समृद्ध राष्ट्र के निर्माण का संकल्प है। यह अमृतकाल का प्रतिबिंब होगा, जो नए भारत को विश्व में अपने यथोचित स्थान को ग्रहण करने के गौरवशाली क्षण का साक्षी बनेगा।

 

तमिलनाडु सरकार ने 2021-22 के ‘हिन्दू रिलिजियस एंड चैरिटेबल एंडोमेंट डिपार्टमेंट’- हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग (एचआर एंड सीई) के पॉलिसी नोट में राज्य के मठों द्वारा निभाई गई भूमिका को गर्व से प्रकाशित किया है। इस दस्तावेज़ के पैरा 24 में मठों द्वारा शाही परामर्शदाता के रूप में निभाई गई भूमिका पर स्पष्ट रूप से प्रकाश डाला गया है। यह ऐतिहासिक योजना आधीनम के अध्यक्षों से विचार-विमर्श करके बनाई गई है। सभी 20 आधीनम के अध्यक्ष इस शुभ अवसर पर आकर इस पवित्र अनुष्ठान की पुनर्स्मृति में अपना आशीर्वाद भी प्रदान कर रहे हैं। इस पवित्र समारोह में 96 साल के वुम्मिडी बंगारु चेट्टी भी सम्मिलित होंगे, जो इसके निर्माण से जुड़े रहे हैं।

 

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने सेन्गोल के बारे में विवरण और डाउनलोड करने योग्य वीडियो के साथ एक विशेष वेबसाइट https://sengol1947.ignca.gov.in को भी लॉन्च किया। उन्होंने कहा, “हम चाहते हैं कि भारत के लोग इसे देखें और इस ऐतिहासिक घटना के बारे में जानें, यह सभी के लिए गर्व की बात है।”

 

इस प्रेस वार्ता में केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी, केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण और खेल एवं युवा मामलों के मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर और संस्कृति मंत्रालय के सचिव गोविन्द मोहन भी उपस्थित थे।

लेबरकोर्ट के रेफरेंस पर दिल्ली हाईकोर्ट के स्टे को सुप्रीम कोर्ट ने किया स्टे

आदेश : लेबरकोर्ट के रेफरेंस पर दिल्ली हाईकोर्ट के स्टे को सुप्रीम कोर्ट ने किया स्टे

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिथियम,  नायोबियम और आरईई के खनन के लिए रॉयल्टी दरों को मंजूरी दी

फैसला : केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिथियम,  नायोबियम और आरईई के खनन के लिए रॉयल्टी दरों को मंजूरी दी

देशभर में बनेंगे 100 फूड स्ट्रीट प्रोजेक्ट, हिमाचल के खाते में 3

समीक्षा : देशभर में बनेंगे 100 फूड स्ट्रीट प्रोजेक्ट, हिमाचल के खाते में 3

पीएम ने किया 91 एफएम ट्रांसमीटरों का उद्घाटन, रेडियो उद्योग में आएगी क्रांति

एफएम कनेक्टिविटी : पीएम ने किया 91 एफएम ट्रांसमीटरों का उद्घाटन, रेडियो उद्योग में आएगी क्रांति

स्टैंड-अप इंडिया योजना के तहत 7 वर्षों में 40,700 करोड़ की राशि आवंटित: निर्मला सीतारामन

उपलब्धि : स्टैंड-अप इंडिया योजना के तहत 7 वर्षों में 40,700 करोड़ की राशि आवंटित: निर्मला सीतारामन

ईपीएफ न्यासी बोर्ड ने 2022-23 के लिए 8.15 प्रतिशत ब्याज की अनुशंसा की

घोषणा : ईपीएफ न्यासी बोर्ड ने 2022-23 के लिए 8.15 प्रतिशत ब्याज की अनुशंसा की

पीएम फसल बीमा योजना के डिजीक्लेम का शुभारंभ, 6 राज्यों के किसानों को 1260 करोड़ जारी

एनसीआईपी : पीएम फसल बीमा योजना के डिजीक्लेम का शुभारंभ, 6 राज्यों के किसानों को 1260 करोड़ जारी

5 राज्यों को मिलेगी 1816 करोड़ की अतिरिक्त केंद्रीय सहायता, हिमाचल को मिले 239.31 करोड़

आपदा कोष   : 5 राज्यों को मिलेगी 1816 करोड़ की अतिरिक्त केंद्रीय सहायता, हिमाचल को मिले 239.31 करोड़

VIDEO POST

View All Videos
X