Thursday, June 20, 2024
BREAKING
डॉ राजेश शर्मा को सीएम आवास में बंधक बनाकर बात मनवाना शर्मनाक:जयराम ठाकुर श्रीलंका में जाइका प्रोजेक्ट का मॉडल बनेगा हिमाचल, धर्मशाला-पालमपुर पहुंचे 11 प्रतिनिधि बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए 3 पूर्व निर्दलीय विधायक: मुख्यमंत्री सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा इस्तीफ़ा: जयराम ठाकुर कांग्रेस ने देहरा विस उपचुनाव में सीएम की पत्‍नी कमलेश ठाकुर को मैदान में उतारा सरकारी विभागों में 6630 पद भरेे जाएंगे, कांस्‍टेबल भर्ती की आयु सीमा में 1 साल की छूट कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित होगा सेंटर ऑफ एक्सीलेंस: मुख्यमंत्री कहां गई सुक्खू सरकार की स्टार्टअप योजना: जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री ने एनआरआई दम्पति पर हमले की कड़ी निंदा की, कार्रवाई के निर्देश गलत साइड से ओवरटेक करते ट्रक से टकराई बाइक, युवक की मौत
 

ईपीएफ न्यासी बोर्ड ने 2022-23 के लिए 8.15 प्रतिशत ब्याज की अनुशंसा की

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Tuesday, March 28, 2023 19:23 PM IST
ईपीएफ न्यासी बोर्ड ने 2022-23 के लिए 8.15 प्रतिशत ब्याज की अनुशंसा की

नई दिल्‍ली, 28 मार्च। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार तथा पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव की अध्यक्षता में आज नई दिल्ली में ईपीएफ के  केंद्रीय न्यासी बोर्ड की 233वीं बैठक आयोजित हुई। बैठक के दौरान उपाध्यक्ष केंद्रीय श्रम और रोजगार, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री रामेश्वर तेली और सह-उपाध्यक्ष श्रम और रोजगार सचिव आरती आहूजा और  सदस्य सचिव, केंद्रीय पीएफ़ आयुक्त नीलम शमी राव भी उपस्थित थीं।

 

केंद्रीय बोर्ड ने वित्तीय वर्ष 2022-23 के लिए सदस्यों के खातों में ईपीएफ संचयों पर 8.15 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर जमा करने की अनुशंसा की। वित्त मंत्रालय के अनुमोदन के बाद सरकारी राजपत्र में ब्याज दर को आधिकारिक रूप से अधिसूचित किया जाएगा, जिसके बाद ईपीएफओ अपने ग्राहकों के खातों में ब्याज दर जमा करेगा।

 

सीबीटी ने सुरक्षा उपायों के लिए विकास और अधिशेष निधि दोनों को संतुलित करने वाली राशि की अनुशंसा की। 8.15 प्रतिशत की अनुशंसित ब्याज दर अधिशेष की सुरक्षा के साथ-साथ सदस्यों की आय में वृद्धि की गारंटी देती है। वास्तव में, 8.15 प्रतिशत की ब्याज दर और 663.91 करोड़ का अधिशेष पिछले वर्ष की ब्याज दर की तुलना में अधिक है।

 

बोर्ड की अनुशंसा में लगभग 11 लाख करोड़ रुपये की कुल मूल राशि पर सदस्यों के खाते में 90,000 करोड़ रुपये से अधिक का वितरण शामिल है, जो वित्तीय वर्ष 2021-22 में क्रमशः 77,424.84 करोड़ रुपये और 9.56 लाख करोड़ रुपये थे। वितरित किए जाने के लिए अनुशंसित कुल आय अब तक की सर्वाधिक है। पिछले वित्तीय वर्ष 2021-22 की तुलना में आय और मूल राशि में वृद्धि क्रमशः 16 प्रतिशत और 15 प्रतिशत से अधिक है।

 

ईपीएफओ पिछले कुछ वर्षों में न्यूनतम क्रेडिट जोखिम के साथ विभिन्न आर्थिक चक्रों के माध्यम से अपने सदस्यों को उच्च आय वितरित करने में सक्षम रहा है। ईपीएफओ निवेश के क्रेडिट प्रोफाइल को ध्यान में रखते हुए ईपीएफओ की ब्याज दर ग्राहकों के लिए उपलब्ध अन्य तुलनीय निवेश विकल्पों की तुलना में अधिक है। ईपीएफओ ने सावधानी और विकास के दृष्टिकोण के साथ मूलधन की सुरक्षा और संरक्षण पर सबसे अधिक बल देते हुए निवेश के प्रति युक्तिसंगत और संतुलित दृष्टिकोण का निरंतर पालन किया है।

 

सबसे बड़े सामाजिक सुरक्षा संगठन में से एक होने के नाते ईपीएफओ इक्विटी और पूंजी बाजार में अस्थिरता की अवधि के दौरान भी अपने ग्राहकों को उच्च आश्वस्त ब्याज दर उपलब्ध कराने के द्वारा अपने उद्देश्य के प्रति सच्चा रहा है। ईपीएफओ द्वारा अपनाए गए निवेश के संकीर्ण लेकिन प्रगतिशील दृष्टिकोण के मिश्रण ने इसे पीएफ सदस्यों के लिए एक बुद्धिमतापूर्ण विकल्प बना दिया है।

 

लेबरकोर्ट के रेफरेंस पर दिल्ली हाईकोर्ट के स्टे को सुप्रीम कोर्ट ने किया स्टे

आदेश : लेबरकोर्ट के रेफरेंस पर दिल्ली हाईकोर्ट के स्टे को सुप्रीम कोर्ट ने किया स्टे

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिथियम,  नायोबियम और आरईई के खनन के लिए रॉयल्टी दरों को मंजूरी दी

फैसला : केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लिथियम,  नायोबियम और आरईई के खनन के लिए रॉयल्टी दरों को मंजूरी दी

उद्घाटन अवसर पर पीएम मोदी करेंगे नए संसद भवन में पवित्र सेन्गोल की स्थापना

अमृतकाल का प्रतिबिंब : उद्घाटन अवसर पर पीएम मोदी करेंगे नए संसद भवन में पवित्र सेन्गोल की स्थापना

देशभर में बनेंगे 100 फूड स्ट्रीट प्रोजेक्ट, हिमाचल के खाते में 3

समीक्षा : देशभर में बनेंगे 100 फूड स्ट्रीट प्रोजेक्ट, हिमाचल के खाते में 3

पीएम ने किया 91 एफएम ट्रांसमीटरों का उद्घाटन, रेडियो उद्योग में आएगी क्रांति

एफएम कनेक्टिविटी : पीएम ने किया 91 एफएम ट्रांसमीटरों का उद्घाटन, रेडियो उद्योग में आएगी क्रांति

स्टैंड-अप इंडिया योजना के तहत 7 वर्षों में 40,700 करोड़ की राशि आवंटित: निर्मला सीतारामन

उपलब्धि : स्टैंड-अप इंडिया योजना के तहत 7 वर्षों में 40,700 करोड़ की राशि आवंटित: निर्मला सीतारामन

पीएम फसल बीमा योजना के डिजीक्लेम का शुभारंभ, 6 राज्यों के किसानों को 1260 करोड़ जारी

एनसीआईपी : पीएम फसल बीमा योजना के डिजीक्लेम का शुभारंभ, 6 राज्यों के किसानों को 1260 करोड़ जारी

5 राज्यों को मिलेगी 1816 करोड़ की अतिरिक्त केंद्रीय सहायता, हिमाचल को मिले 239.31 करोड़

आपदा कोष   : 5 राज्यों को मिलेगी 1816 करोड़ की अतिरिक्त केंद्रीय सहायता, हिमाचल को मिले 239.31 करोड़

VIDEO POST

View All Videos
X