Thursday, December 01, 2022
BREAKING
घास काट रहा व्‍यक्‍ति पांव फिसलने से खाई में गिरा, मौत दुर्घटनाओं में दो बाइक सवार युवकों की जान गई सड़क किनारे खड़े बुजुर्ग को बैक हो रहे टिप्‍पर ने मारी टक्‍कर, मौत सड़क किनारे पड़ा मिला युवक का शव, पुलिस जांच में जुटी कारोबारी की डंडों से पीट-पीट कर हत्‍या की, दो गिरफ्तार मोटर साइकिल पर लिफ्ट देकर महिला को ले गया जंगल और किया दुष्‍कर्म चुवाड़ी में 1 दिसंबर को होगा पूर्व सैनिक व उनके परिवारों का स्वास्थ्य जांच शिविर वन खेल-कूद प्रतियोगिता: 100 मीटर दौड़ में मनीष ने मारी बाजी कार खाई में गिरते ही बनी आग का गोला, फौजी और एक बच्‍चा थे सवार तरसूह हत्‍याकांड: प्रेम प्रसंग के चलते दुश्‍मनी में बदली दोस्‍ती और फिर हुआ खून
 

डंपिंग साइड बना ऐतिहासिक सूही माता मंदिर

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Thursday, July 29, 2021 14:58 PM IST
डंपिंग साइड बना ऐतिहासिक सूही माता मंदिर
Primary Image23

चंबा, 5 जुलाई। हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में स्थित ऐतिहासिक सूही माता मंदिर के पास डंपिंग साइड बना देने से इसका अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। स्थानीय लोगों के जबरदस्त विरोध के बाद भी प्रशासन के कान में जूं नहीं रेंग रही है।
जिले के लुड्डु उटीप मार्ग पर भलोठा गांव में स्थित ऐतिहासिक सूही माता समाधि स्थल के पास ठेकेदार अपनी मनमानी में उतर आए हैं। ठेकेदार समाधि स्थल के ठीक ऊपर के सीधे मार्ग पर मलबा फेंकते हैं। उन्होंने इस जगह को पूरी तरह से डंपिंग साइड बना दिया है। जहां मलबा फेंकता जाता है उसके ठीक नीचे सूही माता का समाधि स्थल है। जिससे समाधि स्थल का अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है। ग्रामीण यहां दिनदहाड़े मलबा फेंकने का पुरजोर विरोध करते हैं। परंतु ना तो ठेकेदारों और ना ही प्रशासन के कानों में जूं रेंग रही है।
स्थानीय निवासी राजेश भारद्वाज, धारों राम, अम्बिका प्रसाद, ललित, राजेश भारद्वाज, हितेश अत्री, प्रशांत अत्री, साहिल, मुकल, दीपक भारद्वाज, कमल कुमार, भूषण और जीवन ने कहा कि समाधि स्थल के आसपास कूड़ा फैंकने से इसका अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है। माता के दर्शनों के लिए यहां हजारों श्रद्धालु आते हैं। ऐसे में कूड़े का बढ़ता ढेर कभी भी किसी बड़े हादसे को न्यौता दे सकता है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की है कि समाधि स्थल के आसपास कूड़ा फैंकने पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए और मनमानी पर उतारू ठेकेदारों कड़ी कार्रवाई की जाए।
मालूम हो कि चंबा मुख्यालय में पानी की कमी के चलते राजघराने की राजमाता ने बलिदान देते हुए अपने आप को जीते जी यहां पर चिनवा दिया था। तब से लेकर आज तक इस पवित्र स्थल को धार्मिक दृष्टि से देखा जाता हैं और वहां पर हजारों श्रद्धालु माथा टेकने आते हैं। अप्रैल माह में बैशाखी के समय यहां पर मेले का आयोजन भी किया जाता हैं।

 

इसरो ने एलवीएम3-एम2 का सफल प्रशेपण कर रचा इतिहास

अंतरिक्ष फतह : इसरो ने एलवीएम3-एम2 का सफल प्रशेपण कर रचा इतिहास

ताश के पत्‍तों की तरह गिरे सुपरटेक के ट्विन टावर

भ्रष्‍टाचार की इमारत : ताश के पत्‍तों की तरह गिरे सुपरटेक के ट्विन टावर

न्यायमूर्ति यूयू ललित बने सीजेआई, कार्यकाल सौ दिन से भी कम

नियुक्‍ति : न्यायमूर्ति यूयू ललित बने सीजेआई, कार्यकाल सौ दिन से भी कम

गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया, बोले पूरी तरह बर्बाद हुई पार्टी

क्षरण : गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया, बोले पूरी तरह बर्बाद हुई पार्टी

पेगासस जांच पैनल को 29 में से 5 फोन में मिला मालवेयर: सुप्रीम कोर्ट

खुलासा : पेगासस जांच पैनल को 29 में से 5 फोन में मिला मालवेयर: सुप्रीम कोर्ट

पीएम सुरक्षा में चूक मामले में नपेंगे फिरोज़पुर के एसएसपी

रिपोर्ट तैयार : पीएम सुरक्षा में चूक मामले में नपेंगे फिरोज़पुर के एसएसपी

भारत को आत्मनिर्भर बनना होगा, स्‍थानीय उत्‍पाद खरीदने को प्रेरित करें संत: पीएम मोदी

हनुमान जयंती पर बोले : भारत को आत्मनिर्भर बनना होगा, स्‍थानीय उत्‍पाद खरीदने को प्रेरित करें संत: पीएम मोदी

बंग्‍लादेश की सीमा की सुरक्षा के लिए बीएसएफ को मिले 3 पोत

सीएसएल ने की डिलीवरी : बंग्‍लादेश की सीमा की सुरक्षा के लिए बीएसएफ को मिले 3 पोत

VIDEO POST

View All Videos
X