Wednesday, July 24, 2024
BREAKING
सरकारी स्‍कूलों में छात्रों की भारी गिरावट पर सीएम चिंतित, स्कूल होंगे मर्ज मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया सभी वर्गों के सशक्तिकरण का साधन है केंद्रीय बजट: जयराम ठाकुर नादौन में 100 पदों के लिए इंटरव्‍यू 24 को, वेतन 16157 रुपये परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री सीएम ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया कांगड़ा में एटीएम चोरी के प्रयास में कोहाला के तीन युवक दबोचे हिमकेयर योजना के तहत की गई 100 करोड़ रुपये की प्रतिपूर्ति: संजय अवस्‍थी जयराम झूठे, 2023-2024 में शगुन योजना के तहत 4,662 बेटियों को दिए 14.45 करोड़: शांडिल ऊना और हमीरपुर में नौकरी का मौका, कंपनियां भरेंगी विभिन्‍न ट्रेडों के कई पद
 

डंपिंग साइड बना ऐतिहासिक सूही माता मंदिर

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Thursday, July 29, 2021 14:58 PM IST
डंपिंग साइड बना ऐतिहासिक सूही माता मंदिर
Primary Image23

चंबा, 5 जुलाई। हिमाचल प्रदेश के चंबा जिले में स्थित ऐतिहासिक सूही माता मंदिर के पास डंपिंग साइड बना देने से इसका अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। स्थानीय लोगों के जबरदस्त विरोध के बाद भी प्रशासन के कान में जूं नहीं रेंग रही है।
जिले के लुड्डु उटीप मार्ग पर भलोठा गांव में स्थित ऐतिहासिक सूही माता समाधि स्थल के पास ठेकेदार अपनी मनमानी में उतर आए हैं। ठेकेदार समाधि स्थल के ठीक ऊपर के सीधे मार्ग पर मलबा फेंकते हैं। उन्होंने इस जगह को पूरी तरह से डंपिंग साइड बना दिया है। जहां मलबा फेंकता जाता है उसके ठीक नीचे सूही माता का समाधि स्थल है। जिससे समाधि स्थल का अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है। ग्रामीण यहां दिनदहाड़े मलबा फेंकने का पुरजोर विरोध करते हैं। परंतु ना तो ठेकेदारों और ना ही प्रशासन के कानों में जूं रेंग रही है।
स्थानीय निवासी राजेश भारद्वाज, धारों राम, अम्बिका प्रसाद, ललित, राजेश भारद्वाज, हितेश अत्री, प्रशांत अत्री, साहिल, मुकल, दीपक भारद्वाज, कमल कुमार, भूषण और जीवन ने कहा कि समाधि स्थल के आसपास कूड़ा फैंकने से इसका अस्तित्व खतरे में पड़ता जा रहा है। माता के दर्शनों के लिए यहां हजारों श्रद्धालु आते हैं। ऐसे में कूड़े का बढ़ता ढेर कभी भी किसी बड़े हादसे को न्यौता दे सकता है। उन्होंने जिला प्रशासन से मांग की है कि समाधि स्थल के आसपास कूड़ा फैंकने पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए और मनमानी पर उतारू ठेकेदारों कड़ी कार्रवाई की जाए।
मालूम हो कि चंबा मुख्यालय में पानी की कमी के चलते राजघराने की राजमाता ने बलिदान देते हुए अपने आप को जीते जी यहां पर चिनवा दिया था। तब से लेकर आज तक इस पवित्र स्थल को धार्मिक दृष्टि से देखा जाता हैं और वहां पर हजारों श्रद्धालु माथा टेकने आते हैं। अप्रैल माह में बैशाखी के समय यहां पर मेले का आयोजन भी किया जाता हैं।

 

VIDEO POST

View All Videos
X