Monday, September 20, 2021
BREAKING
यूपी के युवक ने शिमला की महिला को फेसबुक के जरिए जाल में फंसा किया दुष्‍कर्म चरणजीत चन्‍नी होंगे पंजाब के नए सरदार, सिद्धू के विरोध के चलते रंधावा चूके शिमला से दिल्‍ली रवाना हुए राष्‍ट्रपति, खराब मौसम के चलते 3 घंटे देरी से उड़ा हैलीकाप्‍टर   मंडी के पास ब्‍यास में गिरी मिली हरियाणा नंबर की कार, चालक व सवार लपता, गोताखोर बुलाए दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना ने युवाओं के लिए खोले रोजगार के द्वार मंडी में ममता शर्मसार, मां ने खड्ड में फैंक दी दो दुधमुही बच्‍चियां, मौत बिलासपुर जिला कांग्रेस कमेटी ने बैठक करके आगामी चुनावों को लेकर बनाई रणनीति एम्‍स में एमबीबीएस प्रशिक्षुओं ने केंटीन कर्मी को पीटा, कारें तोड़ीं हिमाचल में 947.47 करोड़ रुपये निवेश के प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान की गुगल पे अकाउंट खोलने के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी

करनाल में किसानों का धरना समाप्‍त, लाठीचार्ज की होगी जांच, एसडीएम छुट्टी पर भेजे, मृतक किसान के बेटे को नौकरी

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Saturday, September 11, 2021 17:25 PM IST
करनाल में किसानों का धरना समाप्‍त, लाठीचार्ज की होगी जांच, एसडीएम छुट्टी पर भेजे, मृतक किसान के बेटे को नौकरी

करनाल(हरियाणा), 11 सितंबर। किसानों पर लाठीचार्ज के बाद एक किसान की मौत के चलते करनाल में धरने पर बैठे किसानों का आंदोलन समाप्‍त हो गया है। इसको लेकर जिला प्रशासन और किसानों के बीच दो मांगों पर समझौता हुआ है। इसके तहत बसताड़ा में हुए लाठीचार्ज की न्‍यायिक जांच होगी और दूसरा मृतक के परिजनों को डीसी रेट पर नौकरी दी जाएगी। इसके साथ ही जांच पूरी होने तक एसडीएम आयुष सिन्‍हा को जबरन छुट्‌टी पर भेज दिया गया है। इसके बाद गुरनाम सिंह चढूनी ने किसानों के बीच आकर धरने को समाप्त करने की घोषणा की। उन्होंने किसानों से अब दिल्ली के टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर कूच करने को कहा है।

 

बताया जा रहा है कि समझौता शुक्रवार देर रात ही हो गया था। इसकी जानकारी शनिवार सुबह दोनों पक्षों ने एक प्रेस कान्‍फ्रेंस करके दी। शनिवार सुबह किसानों ने धरना भी समेट लिया। धरना खत्म होने की घोषणा के बाद जिला सचिवालय पर लगा टेंट उखाड़ दिया गया। टेंटों का सारा सामान इकट्‌ठा कर गाड़ी में रख दिया गया।

 

बताते चलें कि करनाल प्रशासन के अधिकारी बसताड़ा टोल पर किसानों पर हुए लाठीचार्ज की जांच कराने को मान गए हैं। जांच रिटायर्ड जज करेंगे, जो एक महीने में पूरी की जाएगी। प्रशासन ने लाठीचार्ज में मारे गए किसान के बेटे को नौकरी देने की मांग भी मान ली है। अब प्रशासन द्वारा मृतक के परिजन को एक हफ्ते के अंदर डीसी रेट पर नौकरी दी जाएगी। वहीं मृतकों और घायलों को मुआवजे का राशि तय नहीं हो पाई है, लेकिन उन्हें मुआवजा जरूर दिया जाएगा। किसानों के साथ चर्चा में उपायुक्‍त निशांत कुमार यादव और पुलिस अधीक्षक गंगाराम पूनिया शामिल हुए।

 

VIDEO POST

View All Videos