Wednesday, January 19, 2022
BREAKING
चंबा-शिमला के विधायकों ने रखी अपने क्षेत्र के विकास की प्राथमिकताएं बेरोजगार वेटेरिनरी फार्मासिस्टों ने सीएम को भेजा ज्ञापन, नई पंचायतों में मिले नियुक्‍ति   पीडब्‍ल्‍यूडी बेलदार हादसे का शिकार, 4 की मौत, 3 घायल जिला कांगड़ा के विधायकों ने रखी प्राथमिकता, सीएम ने डीपीआर समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश दिए सराह के टॉंग लेन को कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित किया हमीरपुर में रैपिड एंटीजन टैस्ट में 168 कोरोना पॉजिटिव डॉ. सैजल बोले, नई शिक्षा नीति युवाओं के कौशल विकास में कारगर मुख्यमंत्री धर्मशाला रोपवे के अलावा करोड़ों की योजनाओं के उद्घाटन/शिलान्यास करेंगे ऊना में मिले दो ओमिक्रॉन संक्रमित, विदेश से लौटे थे दोनों बिलासपुर एम्‍स के निकट पावर हाउस में हादसा, दो मजदूर दबे एक की मौत

मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Wednesday, October 20, 2021 17:01 PM IST
मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

बेंगलुरु, 20 अक्टूबर। कर्नाटक उच्च न्यायालय ने कहा है कि मुस्लिम निकाह एक अनुबंध है, जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह कोई संस्कार नहीं और इसके विघटन से उत्पन्न कुछ अधिकारों एवं दायित्वों से पीछे नहीं हटा जा सकता। यह मामला बेंगलुरु के भुवनेश्वरी नगर में एजाजुर रहमान (52) की एक याचिका से संबंधित है, जिसमें 12 अगस्त, 2011 को बेंगलुरु में एक पारिवारिक अदालत के प्रथम अतिरिक्त प्रिंसिपल न्यायाधीश का आदेश रद्द करने का अनुरोध किया गया था। रहमान ने अपनी पत्नी सायरा बानो को पांच हजार रुपए के ‘मेहर’ के साथ विवाह करने के कुछ महीने बाद ही ‘तलाक’ शब्द कहकर 25 नवंबर, 1991 को तलाक दे दिया था।

 

इस तलाक के बाद रहमान ने दूसरी शादी की, जिससे वह एक बच्चे का पिता बन गया। बानो ने इसके बाद गुजारा भत्ता लेने के लिए 24 अगस्त, 2002 में एक दीवानी मुकदमा दाखिल किया था। पारिवारिक अदालत ने आदेश दिया था कि वादी वाद की तारीख से अपनी मृत्यु तक या अपना पुनर्विवाह होने तक या प्रतिवादी की मृत्यु तक 3,000 रुपये की दर से मासिक गुजारा भत्ते की हकदार है।

 

न्यायमूर्ति कृष्णा एस दीक्षित ने 25,000 रुपए के जुर्माने के साथ याचिका खारिज करते हुए सात अक्टूबर को अपने आदेश में कहा कि निकाह एक अनुबंध है जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह एक संस्कार नहीं है। यह बात सत्य है। न्यायमूर्ति दीक्षित ने विस्तार से कहा कि मुस्लिम निकाह कोई संस्कार नहीं है और यह इसके समाप्त होने के बाद पैदा हुए कुछ दायित्वों एवं अधिकारों से भाग नहीं सकता।

 

पीठ ने कहा कि तलाक के जरिए विवाह बंधन टूट जाने के बाद भी दरअसल पक्षकारों के सभी दायित्वों एवं कर्तव्य पूरी तरह समाप्त नहीं होते हैं। उसने कहा कि मुसलमानों में एक अनुबंध के साथ निकाह होता है और यह अंतत: वह स्थिति प्राप्त कर लेता है, जो आमतौर पर अन्य समुदायों में होती है। अदालत ने कहा कि यही स्थिति कुछ न्यायोचित दायित्वों को जन्म देती है। वे अनुबंध से पैदा हुए दायित्व हैं।

 

अदालत ने कहा कि कानून के तहत नए दायित्व भी उत्पन्न हो सकते हैं। उनमें से एक दायित्व व्यक्ति का अपनी पूर्व पत्नी को गुजारा भत्ता देने का परिस्थितिजन्य कर्तव्य है जो तलाक के कारण अपना भरण-पोषण करने में अक्षम हो गई है। न्यायमूर्ति दीक्षित ने कुरान में सूरह अल बकराह की आयतों का हवाला देते हुए कहा कि अपनी बेसहारा पूर्व पत्नी को गुजारा-भत्ता देना एक सच्चे मुसलमान का नैतिक और धार्मिक कर्तव्य है।

 

अदालत ने कहा कि एक मुस्लिम पूर्व पत्नी को कुछ शर्तें पूरी करने की स्थिति में गुजारा भत्ता लेने का अधिकार है और यह निर्विवाद है। न्यायमूर्ति दीक्षित ने कहा कि 'मेहर' अपर्याप्त रूप से तय किया गया है और वधु पक्ष के पास सौदेबाजी की समान शक्ति नहीं होती।

जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

कोर्ट का फैसला : जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

फैसला : हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

सुप्रीम कोर्ट या ग्रीन ट्रिब्‍यूनल जाएं   : दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

दिल्‍ली हाईकोर्ट : समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

ताकि न्‍याय व्‍यस्‍था पर बना रहे विश्‍वास : हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

नशा मुक्‍ति केंद्रों की दयनीय हालत पर हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, दो माह में मांगा जवाब

समाचार आधारित जनहित याचिका : नशा मुक्‍ति केंद्रों की दयनीय हालत पर हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, दो माह में मांगा जवाब

गणेश चतुर्थी के आयोजन पर दिल्ली सरकार के खिलाफ याचिका वापस ली, ताजा याचिका हो सकती है दायर

त्रुटिपूर्ण याचिका : गणेश चतुर्थी के आयोजन पर दिल्ली सरकार के खिलाफ याचिका वापस ली, ताजा याचिका हो सकती है दायर

साम्प्रदायिक नारेबाजी मामले में हिंदू संगठन के अध्यक्ष को अंतरिम संरक्षण देने से कोर्ट का इनकार

हम तालिबान राज्य नहीं : साम्प्रदायिक नारेबाजी मामले में हिंदू संगठन के अध्यक्ष को अंतरिम संरक्षण देने से कोर्ट का इनकार

VIDEO POST

View All Videos