Thursday, June 20, 2024
BREAKING
डॉ राजेश शर्मा को सीएम आवास में बंधक बनाकर बात मनवाना शर्मनाक:जयराम ठाकुर श्रीलंका में जाइका प्रोजेक्ट का मॉडल बनेगा हिमाचल, धर्मशाला-पालमपुर पहुंचे 11 प्रतिनिधि बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए 3 पूर्व निर्दलीय विधायक: मुख्यमंत्री सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा इस्तीफ़ा: जयराम ठाकुर कांग्रेस ने देहरा विस उपचुनाव में सीएम की पत्‍नी कमलेश ठाकुर को मैदान में उतारा सरकारी विभागों में 6630 पद भरेे जाएंगे, कांस्‍टेबल भर्ती की आयु सीमा में 1 साल की छूट कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित होगा सेंटर ऑफ एक्सीलेंस: मुख्यमंत्री कहां गई सुक्खू सरकार की स्टार्टअप योजना: जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री ने एनआरआई दम्पति पर हमले की कड़ी निंदा की, कार्रवाई के निर्देश गलत साइड से ओवरटेक करते ट्रक से टकराई बाइक, युवक की मौत
 

हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Tuesday, September 21, 2021 20:22 PM IST
हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

शिमला, 21 सितंबर। हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियों को रद्द कर दिया है। कोर्ट ने फैसले में इन पदों के लिए चयन प्रक्रिया को नियमों के विपरीत व अवैध करार दिया और इन दोनों पदों को वर्ष 2021 की रिक्‍तियां मानते हुए ये पद नए सिरे से भरने के आदेश जारी किए हैं। न्यायाधीश तरलोक सिंह चैहान और न्यायाधीश संदीप शर्मा ने दोनों जजों की नियुक्तियों को चुनौती देने वाली याचिकाओं का निपटारा करते हुए सिविल जज विवेक कायथ व आकांक्षा डोगरा की नियुक्तियों को रद्द करने का फैसला सुनाया।

 

ये दोनों जज वर्ष 2013 बैच के एचपीजेएस अधिकारी थे। कोर्ट ने पाया कि दोनों जजों की नियुक्तियां उन पदों के खिलाफ की गईं, जिनका कोई विज्ञापन नहीं दिया गया। बिना विज्ञापन के इन पदों को भरने पर कोर्ट ने हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग को चेताया कि भविष्य में ऐसी लापरवाही न करें। मामला यह था कि एक फरवरी 2013 को प्रदेश लोक सेवा आयोग ने सिविल जजों के आठ रिक्त पदों को भरने के लिए विज्ञापन के माध्यम से आवेदन आमंत्रित किए। इनमें छह पद पहले से रिक्त थे और दो पद भविष्य में रिक्त होने थे। आयोग ने अंतिम परिणाम निकाल कर कुल आठ अभ्यर्थियों की नियुक्तियों की अनुशंसा सरकार से की और अन्य सफल अभ्यर्थियों की एक सिलेक्ट लिस्ट भी तैयार की।

 

इस बीच प्रदेश में दो सिविल जजों के अतिरिक्त पद सृजित किए गए। लोक सेवा आयोग ने इन दो पदों को सिलेक्ट लिस्ट से भरने की प्रक्रिया आरंभ की और विवेक कायथ और आकांक्षा डोगरा को नियुक्ति देने की अनुशंसा की। सरकार ने इन्हें नियुक्तियां भी दे दी थीं। कोर्ट ने दोनों की नियुक्तियों को रद्द करते हुए कहा कि इन नए सृजित पदों को कानूनन विज्ञापित किया जाना जरूरी था ताकि अन्य योग्यता रखने वाले अभ्यर्थियों को भी इन पदों के लिए प्रतिस्पर्धा का मौका मिलता। फैसले में स्पष्ट किया गया है कि इन जजों की नियुक्तियां रद्द होने से इन दोनों पदों को वर्ष 2021 की रिक्तियां माना जाएगा और इन्हें भरने की प्रक्रिया कानून के अनुसार की जाएगी।

 

कोर्ट ने अपने निर्णय में ये भी कहा है कि न्याय प्रक्रिया में जनमानस के विश्वास के दृष्टिगत यह वांछित है कि इस प्रक्रिया से जुड़े लोगों का चयन पारदर्शी तरीके से हो। यदि लोगों के मामलों का निपटारा करने वाले न्‍यायिक अधिकारी की अपनी ही चयन प्रक्रिया नियमों के विपरीत हो तो इससे लोगों का न्यायपालिका से विश्वास उठ जाएगा।

जस्‍टीस अमजद ए. सईद ने हिमाचल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

पदभार संभाला : जस्‍टीस अमजद ए. सईद ने हिमाचल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

न्यायमूर्ति सत्येन वैद्य ने हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

नियुक्‍ति : न्यायमूर्ति सत्येन वैद्य ने हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

हिमाचल के सात जिला एवं सत्र न्‍यायाधीशों का तबादला, अरविंद मल्‍होत्रा डीजे कांगड़ा

आदेश : हिमाचल के सात जिला एवं सत्र न्‍यायाधीशों का तबादला, अरविंद मल्‍होत्रा डीजे कांगड़ा

जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

कोर्ट का फैसला : जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

फैसला : हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

सुप्रीम कोर्ट या ग्रीन ट्रिब्‍यूनल जाएं   : दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

दिल्‍ली हाईकोर्ट : समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

तलाक के बाद पत्‍नी को देना होगा गुजारा भत्‍ता : मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

VIDEO POST

View All Videos
X