Wednesday, July 24, 2024
BREAKING
सरकारी स्‍कूलों में छात्रों की भारी गिरावट पर सीएम चिंतित, स्कूल होंगे मर्ज मुख्यमंत्री ने केंद्रीय बजट को निराशाजनक और किसान विरोधी बताया सभी वर्गों के सशक्तिकरण का साधन है केंद्रीय बजट: जयराम ठाकुर नादौन में 100 पदों के लिए इंटरव्‍यू 24 को, वेतन 16157 रुपये परिवहन निगम में 357 कंडक्टरों को जल्द मिलेगी नियुक्ति: मुकेश अग्निहोत्री सीएम ने अम्रुत योजना में पहाड़ी राज्यों के लिए मापदंडों में ढील देने का आग्रह किया कांगड़ा में एटीएम चोरी के प्रयास में कोहाला के तीन युवक दबोचे हिमकेयर योजना के तहत की गई 100 करोड़ रुपये की प्रतिपूर्ति: संजय अवस्‍थी जयराम झूठे, 2023-2024 में शगुन योजना के तहत 4,662 बेटियों को दिए 14.45 करोड़: शांडिल ऊना और हमीरपुर में नौकरी का मौका, कंपनियां भरेंगी विभिन्‍न ट्रेडों के कई पद
 

समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Monday, October 25, 2021 17:56 PM IST
समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई 30 नवंबर को

नई दिल्ली, 25 अक्तूबर। दिल्ली उच्च न्यायालय ने समलैंगिक जोड़ों की उन दो याचिकाओं सहित अलग-अलग याचिकाओं को अंतिम सुनवाई के लिए सोमवार को 30 नवंबर को सूचीबद्ध कर दिया, जिनमें विशेष, हिंदू और विदेशी विवाह कानूनों के तहत समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने का अनुरोध किया गया है।

 

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने मामले में पक्षकारों को जवाब और प्रत्युत्तर दाखिल करने के लिए समय दिया और इसे 30 नवंबर को अंतिम सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया। पहली याचिका में, अभिजीत अय्यर मित्रा और तीन अन्य ने तर्क दिया है कि उच्चतम न्यायालय के दो वयस्कों के बीच सहमति से अप्राकृतिक संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर किये जाने के बावजूद समलैंगिक विवाह संभव नहीं है। याचिका में हिंदू विवाह अधिनियम (एचएमए) और विशेष विवाह अधिनियम (एसएमए) के तहत उन्हें मान्यता देने की घोषणा करने का अनुरोध किया गया है।

 

दो अन्य याचिकाओं में से एक विशेष विवाह कानून के तहत शादी करने के अनुरोध को लेकर दो महिलाओं ने दाखिल की है जबकि दूसरी याचिका दो पुरुषों की है जिन्होंने अमेरिका में शादी की लेकिन विदेशी विवाह अधिनियम (एफएमए) के तहत उनकी शादी के पंजीकरण से इनकार कर दिया गया।

एक अन्य याचिका में भारत के प्रवासी नागरिक (ओसीआई) कार्डधारक के विदेशी मूल के पति या पत्नी को लिंग या यौन अभिविन्यास की परवाह किए बिना ओसीआई पंजीकरण के लिए आवेदन करने की अनुमति देने अनुरोध किया गया है। याचिकाकर्ता एक विवाहित समलैंगिक जोड़ा है। इनमें जॉयदीप सेनगुप्ता, एक ओसीआई और रसेल ब्लेन स्टीफंस, एक अमेरिकी नागरिक और मारियो डेपेन्हा, एक भारतीय नागरिक और एक क्वीर राइट्स अकादमिक और कार्यकर्ता है जो रटगर्स विश्वविद्यालय, अमेरिका में पीएचडी कर रहे हैं।

 

सुनवाई के दौरान, दंपति की ओर से पेश अधिवक्ता करुणा नंदी ने कहा कि उन्होंने न्यूयॉर्क में शादी की और उनके मामले में नागरिकता अधिनियम, विदेशी विवाह कानून और हिन्दू विवाह कानून कानून लागू हैं। केंद्र का प्रतिनिधित्व करने वाले सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने तर्क दिया कि एक ‘जीवनसाथी’ का अर्थ पति या पत्नी है और ‘विवाह’ विषमलैंगिक जोड़ों से जुड़ा एक शब्द है और नागरिकता अधिनियम के संबंध में एक विशिष्ट उत्तर दाखिल करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

 

समान अधिकार कार्यकर्ता मित्रा, गोपी शंकर एम, गीता थडानी और जी ऊरवासी की याचिका में कहा गया है कि शीर्ष अदालत ने समलैंगिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे से मुक्त कर दिया है लेकिन हिन्दू विवाह कानून के प्रावधानों के तहत समलैंगिक विवाह को अभी भी अनुमति नहीं दी जा रही है।

 

जस्‍टीस अमजद ए. सईद ने हिमाचल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

पदभार संभाला : जस्‍टीस अमजद ए. सईद ने हिमाचल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

न्यायमूर्ति सत्येन वैद्य ने हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

नियुक्‍ति : न्यायमूर्ति सत्येन वैद्य ने हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की शपथ ग्रहण की

हिमाचल के सात जिला एवं सत्र न्‍यायाधीशों का तबादला, अरविंद मल्‍होत्रा डीजे कांगड़ा

आदेश : हिमाचल के सात जिला एवं सत्र न्‍यायाधीशों का तबादला, अरविंद मल्‍होत्रा डीजे कांगड़ा

जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

कोर्ट का फैसला : जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 817, 447 और 556 पर लगा स्टे हटा, शुरू होगी भर्ती

हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

फैसला : हाईकोर्ट ने एक माह में स्‍वतंत्र राज्‍य परिवहन अपीलीय ट्रिब्‍यूनल के गठन के आदेश दिए

दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

सुप्रीम कोर्ट या ग्रीन ट्रिब्‍यूनल जाएं   : दिल्ली से बाहर उपयोग के लिए पटाखों की बिक्री की अनुमति से इनकार

मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

तलाक के बाद पत्‍नी को देना होगा गुजारा भत्‍ता : मुस्लिम निकाह एक अनुबंध, हिंदू विवाह की तरह संस्कार नहीं: कर्नाटक उच्च न्यायालय

हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

ताकि न्‍याय व्‍यस्‍था पर बना रहे विश्‍वास : हिमाचल हाईकोर्ट ने दो सिविल जजों की नियुक्तियां रद्द कीं, रिक्‍त माने जाएंगे दोनों पद

VIDEO POST

View All Videos
X