Thursday, June 20, 2024
BREAKING
डॉ राजेश शर्मा को सीएम आवास में बंधक बनाकर बात मनवाना शर्मनाक:जयराम ठाकुर श्रीलंका में जाइका प्रोजेक्ट का मॉडल बनेगा हिमाचल, धर्मशाला-पालमपुर पहुंचे 11 प्रतिनिधि बिकने के बाद भाजपा के गुलाम हुए 3 पूर्व निर्दलीय विधायक: मुख्यमंत्री सरकार की तनाशाही के कारण निर्दलीय विधायकों को देना पड़ा इस्तीफ़ा: जयराम ठाकुर कांग्रेस ने देहरा विस उपचुनाव में सीएम की पत्‍नी कमलेश ठाकुर को मैदान में उतारा सरकारी विभागों में 6630 पद भरेे जाएंगे, कांस्‍टेबल भर्ती की आयु सीमा में 1 साल की छूट कण्डाघाट में दिव्यांगजनों के लिए स्थापित होगा सेंटर ऑफ एक्सीलेंस: मुख्यमंत्री कहां गई सुक्खू सरकार की स्टार्टअप योजना: जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री ने एनआरआई दम्पति पर हमले की कड़ी निंदा की, कार्रवाई के निर्देश गलत साइड से ओवरटेक करते ट्रक से टकराई बाइक, युवक की मौत
 

चंद्र ग्रहण से अद्भुत संयोग लेकर आ रही कार्तिक पूर्णिमा, ऐसे होगी मनोकामना पूर्ति

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Friday, November 19, 2021 13:23 PM IST
चंद्र ग्रहण से अद्भुत संयोग लेकर आ रही कार्तिक पूर्णिमा, ऐसे होगी मनोकामना पूर्ति

पूर्णिमा तो हर माह आती है पर इस वर्ष पड़ने वाली कार्तिक माह की पूर्णिमा चन्द्र ग्रहण के कारण अद्भुत संयोग लेकर आ रही है। ज्योतिषीय दृष्टि से 580 वर्ष बाद ऐसा संयोग पड़ रहा है। एक लंबी अवधि का चन्द्र ग्रहण इससे पूर्व 19 फरवरी 1440 को लगा था और 19 नवंबर 2021 को चन्द्र ग्रहण पूरे 5 घंटे 59 मिनट लंबा होगा।

स्‍नान करने का शुभ मुहूर्त


कार्तिक पूर्णिमा पर स्‍नान करने का शुभ मुहूर्त 19 नवंबर 2021 शुक्रवार को ब्रह्म मुहूर्त से दोपहर 2.30 तक है।

क्या मान्यता है इस पर्व की-

सनातन धर्म में कार्तिक पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इसे भगवान शिव के द्वारा त्रिपुरारी नामक दैत्य का वध करने के कारण त्रिपुरारी पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस दिन भगवान शिव और भगवान विष्णु की आराधना करनी चाहिए। इसके करने से शरीर में आध्यात्मिक और शारीरिक उर्जा का संचार होता है। इस दिन देवी-देवताओं की आराधना करने से आराध्य जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

ऐसी मान्यता है कि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन ही सिख धर्म के पहले गुरु यानी गुरु नानकदेव इस धरती पर अवतरित हुए थे। इसलिए गुरु नानक जयंती से की वजह से भी ये दिन विशेष बनता है। खास इस वजह से भी हिंदू और सिख धर्म के अनुयायी कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पर्व प्रकाश पर्व या प्रकाश उत्सव के रूप मनाते हैं। इस अवसर पर गुरुद्वारों में अरदास की जाती है और बहुत बड़े स्तर पर जगह-जगह पर लंगरों का आयोजन किया जाता है।

क्या करें इस दिन...


आप पूरे वर्ष तो नल के पानी स्नान करते हैं पर इस दिन प्रातः उठकर किसी पवित्र नदी या सरोवर में स्नान करना चाहिए और दीप दान करना चाहिए। इससे आपके अंदर स्वतः ही एक ऊर्जा का आभास होगा और आप पूरे वर्ष इस ऊर्जा को महसूस करेंगे। यदि संभव न हो तो घर में स्नान वाले जल में गंगा जल डाल कर स्नान कर लेना चाहिए। देव स्थान में दीपदान से घर में धन धान्य व सुख शांति बनी रहती है।

इस दिन दान क्यों करें

संचय के साथ साथ यदि आप दान देने की प्रवृत्ति आप में हैं तो आपका इस लोक के साथ-साथ आपका परलोक भी पुण्य से भर जाता है, इसी मान्यता को लेकर सनातन धर्म में दान की महत्ता को बताया गया है। अतः इस दिन आप अपने सामर्थ्य अनुसार दान अवश्य दें ये हमारी संस्कृति का एक हिस्सा भी है। इस दिन चावंल का दान अत्यंत शुभ माना जाता है। इससे घर में लक्ष्मी का वास होता है।

विशेष होगा ये चन्द्र ग्रहण...

इस दिन पड़ने वाले ग्रहण का विशेष महत्व होगा, जो दिन में भारतीय समय अनुसार सुबह 11.33 से लेकर समापन 5.34 मिनट तक रहेगा। ये अवधि 5 घंटे 59 मिनट तक रहेगी।

ज्योतिष दृष्टि से कार्तिक पूर्णिमा का महत्व

धर्म और ज्‍योतिष के मुताबिक कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदी में स्‍नान करके उगते सूर्य को अर्ध्य देने का विशेष महत्व है। इसके अलावा इस दिन दान.पुण्‍य करने से कई तरह के पापों से मुक्ति भी मिलती है। ज्योतिष के अनुसार यदि कुंडली में चंद्रमा कमजोर हो तो कार्तिक पूर्णिमा के दिन चावल का दान करने से लाभ होता है। इसके अलावा इस दिन दीपदान और तुलसी पूजा जरूर करनी चाहिए।

भूल कर भी न ये काम

किसी भी प्रकार का व्यवसन न करें। इससे लक्ष्मी क्षीण होती है।
वाद-विवाद से दूरी बनाए, अपशब्द न कहें। किसी का अहित न सोचें।
मांसाहार का सेवन न करें।

बाल व नाखून न कांटें

इस दिन किसी असहाय या गरीब व्‍यक्ति अपमान न करें, क्योंकि इस दिन गरीबों और असहायों की मदद करनें और उन्हें दान देने से शुभ फल मिलते हैं।

कार्तिक पूर्णिमा के मंत्र

ओम सोमाय नमः  

और

ओंम विष्णवे नमः

चन्द्र ग्रहण के अद्भुत संयोग से होगी लक्ष्मी की प्राप्ति

ग्रहण काल में यदि आप अपने घर में लक्ष्मी के इस मंत्र का 1100 बार जप कर घी से हवन करते हैं तो निश्चित ही आपको लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती ही है। मैंने अपने कई गृहस्थ शिष्यों को इस मंत्र का प्रयोग करवाया है और वे इससे लाभान्वित हुए हैं

मंत्र-

ओम वर वरद विष्णु प्रिये लक्ष्मी मम गृहे आगच्छ आगच्छ फट

यह एक गोपनीय और तीव्र लक्ष्मी आकर्षक प्रयोग है जिसे कमल गट्टे की माला से ग्रहण काल में करना चाहिए। उसके बाद हवन के पश्चात इस माला को जल में प्रवाहित कर देना चाहिए। कुछ ही दिनों में इसका लाभ आपको देखने को स्वतः ही मिलेगा।
- स्वामी श्रेयानन्द महाराज (सनातन साधक परिवार)

 

जानें आज का राशिफल

Rashifal : जानें आज का राशिफल

अवगुणों को दूर करके सद्गुण अपनायें: सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज

सतसंग : अवगुणों को दूर करके सद्गुण अपनायें: सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज

श्री नैनादेवी मंदिर में विश्‍व युद्ध और खूनखराबे से बचाने की कामना से किया गया महायज्ञ

दैवीय अह्वान : श्री नैनादेवी मंदिर में विश्‍व युद्ध और खूनखराबे से बचाने की कामना से किया गया महायज्ञ

 भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय...

महाशिवरात्रि विशेष :  भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय...

जानें, लक्ष्मी पूजन का समय, व्यापार में वृद्धि के लिए करें यह प्रयोग

लक्ष्‍मी पूजन विधि : जानें, लक्ष्मी पूजन का समय, व्यापार में वृद्धि के लिए करें यह प्रयोग

होगा साल भर लक्ष्मी का आगमन, करें ये उपाय

जानें धनतेरस पूजा का विधि-विधान : होगा साल भर लक्ष्मी का आगमन, करें ये उपाय

मॉं दक्षिण महाकाली का यह मंत्र करेगा तनाव व चिंता से मुक्त, स्‍मरण शक्‍ति में भी मददगार

नवरात्रि विशेष : मॉं दक्षिण महाकाली का यह मंत्र करेगा तनाव व चिंता से मुक्त, स्‍मरण शक्‍ति में भी मददगार

या देवी सर्वभूतेषु .....जानें कौन कैसे करे देवी माता की साधना

नवरात्रि पूजा : या देवी सर्वभूतेषु .....जानें कौन कैसे करे देवी माता की साधना

VIDEO POST

View All Videos
X