Tuesday, April 23, 2024
BREAKING
शिमला में चार साल की मासूम से दुष्‍कर्म चंबा फ़र्स्ट के लिए मोदी ने चंबा को आकांक्षी ज़िला बनाया : जयराम ठाकुर बिकाऊ विधायक धनबल से नहीं जीत सकते उपचुनाव : कांग्रेस तीन हजार रिश्‍वत लेते रंगे हाथों दबोचा एएसआई 23 वर्षीय युवती ने फंदा लगाकर की आत्‍महत्‍या सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च: मुख्यमंत्री युवक ने दिनदिहाड़े छात्रा पर किए दराट के एक दर्जन वार, हालत गंभीर पीजीआई रेफर राज्य सरकार के प्रयासों से शिंकुला टनल को मिली एफसीए क्लीयरेंस: सीएम कांग्रेस नेताओं ने कई मुद्दों पर भाजपा को घेरा, बोले भाजपा नेता कर रहे गुमराह स्वदेशी क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण
 

नगरकोट माता बज्रेश्वरी देवी मंदिर में शुरु हुआ सात दिवसीय घृतमंडल पर्व

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Sunday, January 14, 2024 20:40 PM IST
नगरकोट माता बज्रेश्वरी देवी मंदिर में शुरु हुआ सात दिवसीय घृतमंडल पर्व

कांगड़ा, 14 जनवरी। श्री नगरकोट धाम माता बज्रेश्वरी देवी मंदिर कांगड़ा में आज से भव्य घृतमंडल पर्व की शुरुआत हो गई है। करीब ढाई क्विंटल देशी घी से मक्खन तैयार करके माता की पवित्र पिंडी पर चढ़ाया गया है और इसे आज देर रात तक विभिन्न प्रकार के मेवों से सजाया जाएगा। सात दिन तक चलने वाले इस घृत मंडल का आयोजन शताब्दियों से होता आ रहा है। इस दौरान देश और विदेशों से मां भगवती के श्रद्धालु माता का अशीर्वाद लेने पहुंचेंगे। मकर संक्रांति के दिन से शुरू होने वाले इस पर्व के पहले दिन जागरण का आयोजन भी किया जाता है।

 

जालंधर दैत्य से युद्ध में घायल माता के घावों पर लगाया जाता है मक्खन

 

घृत मंडल पर्व के आयोजन के पीछे कई तरह की मान्यताएं हैं। एक मान्यता के अनुसार जालंधर दैत्य से हुए भयंकर युद्ध के दौरान माता ने उसका बध किया, मगर इस दौरान माता के शरीर पर अनेक घाव हुए थे। देवी-देवताओं ने इन घावों को शांत करने के लिए माता के शरीर पर घृत का लेप किया था। कहा जाता है कि उस दौरान देवी-देवताओं ने देसी घी को एक सौ एक बार शीतल जल से धोकर उसका मक्खन बनाया था और उसे माता के शरीर पर आए घावों पर लगाया था। यह परंपरा सदियों से वैसे ही चली आ रही है और अब मंदिर के पुजारी एवं प्रशासन भक्तों से दान में दिए गए देशी घी को 101 बार ठंडे पानी में धो कर मक्कखन तैयार करते हैं। इस मक्खन से मां के पिंडी स्वरूप को पहाड़ की आकृति में ढकने के बाद इसे विभिन्न प्रकार के फलों और मेवों से सजाया जाता है। वहीं सात दिन तक चलने वाले इस पर्व में मंदिर को भी फुलों और लाइटों से सजाया जाता है। मंदिर की सुंदरता श्रद्धालुओं का मन मोह लेती है।

 

चर्म रोग ठीक करता है माता पर चढ़ा मक्कखन

 

मान्यता है कि शरीर में होने वाले चर्म रोगों और जोड़ों के दर्द में लेप करने के लिए यह प्रसाद रामबाण का काम करता है। सात दिन के पर्व के बाद अंतिम दिन मक्कखन को पिंडी पर से उतार कर इसे प्रसाद के तौर पर श्रद्धालुओं में वितरित किया जाता है। स्थानीय लोग व श्रद्धालु इसे संभाल कर रखते हैं और इस दौरान होने वाले चर्म रोगों, पुराने घावों व फोड़ों पर इसे लेप करके दवा के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। बताया तो यह भी जाता है कि कई लोगों ने इसके लेप से गंभीर रोगों तक से छुटकारा पाया है।

सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च: मुख्यमंत्री

आश्‍वासन : सरकार उठाएगी पीड़ित बिटिया के इलाज का पूरा खर्च: मुख्यमंत्री

बिकने वाले जा चुके, अब धनबल से बिकने वाला कोई नहीं: सीएम सुक्‍खू

बयान : बिकने वाले जा चुके, अब धनबल से बिकने वाला कोई नहीं: सीएम सुक्‍खू

मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला को दी 509 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों की सौगात

कार्यक्रम : मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला को दी 509 करोड़ रुपये से अधिक के विकास कार्यों की सौगात

सीएम सुक्‍खू बोले, भ्रष्टाचार को रोकने के लिए बनाएंगे और सख्त कानून

संबोधन : सीएम सुक्‍खू बोले, भ्रष्टाचार को रोकने के लिए बनाएंगे और सख्त कानून

आत्‍मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा हिमाचल, सरकारी क्षेत्र में 20 हजार भर्तियां शुरू: सुक्‍खू

संबोधन : आत्‍मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा हिमाचल, सरकारी क्षेत्र में 20 हजार भर्तियां शुरू: सुक्‍खू

मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला को दी 784 करोड़ रुपये की 33 विकास परियोजनाओं की सौगात

विकासकार्य : मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला को दी 784 करोड़ रुपये की 33 विकास परियोजनाओं की सौगात

जाइका की कार्यशाला में नूरपुर में पढ़ाया पंचसूत्रों का मंत्र

टिप्स दिए : जाइका की कार्यशाला में नूरपुर में पढ़ाया पंचसूत्रों का मंत्र

हिमाचल में 13,168 करोड़ रुपये की रेलवे परियोजनाओं पर चल रहा काम: राज्‍यपाल

रेलवे उन्नयन : हिमाचल में 13,168 करोड़ रुपये की रेलवे परियोजनाओं पर चल रहा काम: राज्‍यपाल

VIDEO POST

View All Videos
X