Tuesday, November 30, 2021
BREAKING
पहली दिसंबर से बारिश और बर्फबारी के आसार हिमाचल को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाने को कृतसंकल्पःसीएम पुलिस कर्मियों के अनुबंध का मामला सीएम के समक्ष से उठाया: सत्ती निम्‍न शिवालिक पर्वत श्रृंखला की जैव-विविधता के दस्तावेजीकरण की जरूरत मुख्यमंत्री ने धर्मपुर में 381 करोड़ के लोकार्पण एवं शिलान्यास किए रेलवे ट्रैक पर जा रहा कॉलेज छात्र ट्रेन की चपेट में आया, मौत बिलासपुर का एमवीआई, मंडी के 2 एजेंटों समेत रिश्‍वत लेने के आरोप में धरा बरमाणा में चिट्टे समेत दबोचे कार सवार दो युवक हिमाचल में फिल्म उद्योग को आकर्षित करने के लिए प्रयासरतः मुख्यमंत्री राज्यपाल ने मां चिंतपूर्णी मंदिर में टेका माथा, आरोग्य भारती के अधिवेशन में शिरकत

गौवंश संवर्द्धन व गौ सदन आत्मनिर्भर बनाने को जिलों में स्थापित होंगे गौ विज्ञान केंद्र

एफ.आई.आर. लाइव डेस्क Updated on Tuesday, November 23, 2021 16:44 PM IST
गौवंश संवर्द्धन व गौ सदन आत्मनिर्भर बनाने को जिलों में स्थापित होंगे गौ विज्ञान केंद्र

शिमला, 23 नवंबर। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, कृषि, पशुपालन एवं मत्स्य पालन मंत्री एवं अध्यक्ष, गौ सेवा आयोग वीरेन्द्र कंवर ने आज यहां सचिवालय के समिति कक्ष में हिमाचल प्रदेश गौ सेवा आयोग की पांचवीं बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में आयोग की आय-व्यय का विवरण और बजट का अनुमोदन करने सहित विभिन्न विषयों पर चर्चा की गई।

 

इस अवसर पर वीरेंद्र कंवर ने कहा कि प्रदेश सरकार गौ सेवा आयोग के माध्यम से बेसहारा गौवंश के संरक्षण के लिए कई कारगर कदम उठा रही है। प्रत्येक जिले में स्मार्ट गौशाला स्थापित की जा रही हैं। वर्तमान में 2 जिलों सोलन एवं कांगड़ा में स्मार्ट गौशाला की स्थापना के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इन गौशालाओं की क्षमता तीन हजार गौवंश प्रति गौशाला होगी। संचालक यहां पर 20 प्रतिशत दुधारू गौवंश रख सकेंगे।

 

उन्होंने कहा कि प्रत्येक जिला में गौशालाओं को एनिमल लिफ्टर उपलब्ध करवाने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त गौ सदनों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रारम्भ में प्रदेश में बेहतर कार्य कर रहे दस गौ सदनों को गौ विज्ञान केन्द्र के रूप में परिवर्तित किया जाएगा। प्रत्येक जिला में स्थापित होने वाले गौ विज्ञान केंद्रों के माध्यम से भारतीय मूल की गौवंश के अनुसंधान को सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान की गई है। इन केंद्रों के माध्यम से गाय का दूध बढ़ाने तथा पंचगव्य व अन्य गौवंश पदार्थों के उत्पादन को भी अपनाया जाएगा ताकि यह गौशाला आत्मनिर्भर बन सकें।

 

उन्होंने कहा कि गौशालाओं, गौ सदनों एवं गौ-आरण्यों के बेहतर संचालन के लिए प्रदेश सरकार हर संभव वित्तीय सहायता उपलब्ध करवा रही है। हिमाचल प्रदेश गौ सेवा आयोग द्वारा प्रदेश में बेसहारा गौवंश के संरक्षण को गौ सदन/गौशाला एवं गौ आरण्य को सहायता योजना के अंतर्गत 500 रुपए प्रति गाय प्रतिमाह प्रदान किए जा रहे हैं। विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के माध्यम से संचालित की जा रही गौशालाओं की गौ रक्षा निधि बढ़ाने पर भी बैठक में विचार किया गया। गौशाला में संरक्षित गौवंश की बेहतरीन निगरानी के लिए सुपरवाइजर की भी तैनाती करने पर विचार किया जा रहा है।

 

उन्होंने कहा कि तीन वर्ष पूर्व गठित गौ सेवा आयोग बेसहारा गौवंश के संरक्षण के लिए बेहतर कार्य कर रहा है। वर्तमान में प्रदेश में 15 बड़ी गौशाला एवं गौवंश आरण्य स्थापित किए जा रहे हैं, जिनमें से आठ का कार्य पूर्ण हो चुका है। इनके निर्माण पर लगभग 31 करोड़ रुपये व्यय किए जा रहे हैं। वर्तमान में लगभग 18 हजार गौवंश को इनमें आश्रय दिया गया है।

 

इस अवसर पर उन्होंने हिमाचल प्रदेश गौ सेवा आयोग की वेबसाइट का भी अवलोकन उपरांत शुभारंभ किया। इस वेबसाइट के माध्यम से आयोग की विभिन्न गतिविधियों को ऑनलाइन माध्यम से देखा जा सकेगा और दानी सज्जन ऑनलाइन माध्यम से ही इसमें अपना अंशदान भी आयोग को दे सकते हैं। बैठक में प्रदेश सरकार से गौ सेवा आयोग को अतिरिक्त अनुदान प्रदान करने का भी आग्रह किया गया।

 

बैठक में हिमाचल प्रदेश गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा, अतिरिक्त मुख्य सचिव भाषा, कला एवं संस्कृति आर.डी. धीमान, सचिव वित्त अक्षय सूद, सचिव पशुपालन डॉ. अजय शर्मा, संयुक्त सचिव राजस्व सुनील वर्मा, सहित आयोग के सरकारी एवं गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे। पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. प्रदीप शर्मा ने बैठक की कार्यवाही प्रस्तुत की, जबकि सहायक निदेशक पशुपालन डॉ. राजीव वालिया ने बैठक का संचालन किया।

 

 

हिमाचल को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाने को कृतसंकल्पःसीएम

मनाली टूरिज्‍म कॉन्‍क्‍लेव : हिमाचल को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाने को कृतसंकल्पःसीएम

हिमाचल में फिल्म उद्योग को आकर्षित करने के लिए प्रयासरतः मुख्यमंत्री

7वां शिमला अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल : हिमाचल में फिल्म उद्योग को आकर्षित करने के लिए प्रयासरतः मुख्यमंत्री

छात्रों की प्रतिभा निखारेगी हिप्र. स्वर्ण जयंती मिडल मेरिट छात्रवृत्ति योजना

प्रतियोगी परीक्षा : छात्रों की प्रतिभा निखारेगी हिप्र. स्वर्ण जयंती मिडल मेरिट छात्रवृत्ति योजना

शहरी विकास मंत्री ने हिमुडा लैंड पूलिंग नीति की समीक्षा की

बैठक आयोजित : शहरी विकास मंत्री ने हिमुडा लैंड पूलिंग नीति की समीक्षा की

भारतीय संविधान ने न्याय और समानता के महान मूल्यों को साझा करने का अवसर दियाः राज्यपाल

आईआईएएस में राष्ट्रीय संगोष्ठी : भारतीय संविधान ने न्याय और समानता के महान मूल्यों को साझा करने का अवसर दियाः राज्यपाल

सीएम ने शिमला को शीर्ष स्थान प्राप्त होने पर सामूहिक प्रयासों को सराहा

शहरी विकास लक्ष्य सूचकांक 2021-22 : सीएम ने शिमला को शीर्ष स्थान प्राप्त होने पर सामूहिक प्रयासों को सराहा

मुख्यमंत्री ने टैक्सटाईल उद्योग की इकाई का किया शुभारंभ, 600 को मिलेगा रोजगार

औद्योगिकरण : मुख्यमंत्री ने टैक्सटाईल उद्योग की इकाई का किया शुभारंभ, 600 को मिलेगा रोजगार

बैडमिंटन खिलाड़ी योगेश चौहान को सीएम ने सौंपा स्‍पांसरशिप अवॉर्ड

स्‍पेन में खेलेंगे प्रतियोगिता   : बैडमिंटन खिलाड़ी योगेश चौहान को सीएम ने सौंपा स्‍पांसरशिप अवॉर्ड

VIDEO POST

View All Videos